Polio Vaccination Day: 2 बूंद जिंदगी की, जानिए कब हुई थीं पोलियो वैक्सीन की खोज

मुख्यमंत्री योगी ने लखनऊ के वीरांगना अवंती बाई महिला चिकित्सालय से पोलियो अभियान की शुरूआत करते हुए कहा कि भारत में पोलियो का अंतिम मामला 2010 में आया था

नई दिल्ली: देश भर में आज पोलियो टीकाकरण दिवस (Polio Vaccination Day) मनाया जा रहा है। इस मौके पर देश के अलग-अलग राज्यों में तमाम राजनीतिक दिग्ग्जों ने पोलियो ड्राप पिलाकर अभियान की शुरूआत की है। देश को पोलियो मुक्त बनाने के लिए भारत सरकार के अभियान के तहत 5 साल के कम उम्र के बच्चों को पोलियों की ड्राप पिलाई जाती है।

पोलियो अभियान की शुरूआत

उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ के वीरांगना अवंती बाई महिला चिकित्सालय से पल्स पोलियो अभियान की शुरूआत करते हुए कहा कि भारत में पोलियो का अंतिम मामला 2010 में आया था। मार्च 2014 में देश को पोलियो से मुक्त घोषित कर दिया गया। पाकिस्तान, अफगानिस्तान और नाइजीरिया में पोलियो के मामले सामने आ रहे हैं। पोलियो का संक्रमण भारत के बच्चों में न हो जाए इसलिए ये अभियान निरंतर चलाने की जरूरत है।

यह भी पढ़ेBombay High Court: ‘पत्नी से पैसे मांगना उत्पीड़न (Harassment) नहीं’ आरोपी बरी

Paralysis होने के कारण

  • एक वायरस जो Paralysis का कारण हो सकता है और पोलियो वैक्सीन के द्वारा इसे आसानी से रोका जा सकता है।
  • पोलियो का संक्रमण दूषित पानी या भोजन से होता है, या किसी संक्रमित व्यक्ति से संपर्क में आने से होता है।
  • कई लोग जो पोलियो वायरस से संक्रमित होते हैं वे बीमार नहीं होते हैं और कोई लक्षण भी नहीं होता। हालांकि, जो लोग बीमार हो जाते हैं वे Paralysis हो जाते हैं जो कभी-कभी घातक हो सकते हैं।
  • पोलियो के इलाज के लिए बेड रेस्ट, दर्द निवारक और पोर्टेबल वेंटिलेटर शामिल हैं।
  • पोलियो वैक्सीन की खोज वैज्ञानिक जोनास सॉक ने की थी।

वैक्सीन की खोज

कोप्रोव्स्की (Koprowski) द्वारा पीने वाली पोलियो वैक्सीन की खोज करने के दो वर्ष बाद वैज्ञानिक जोनास सॉक ने पोलियो वैक्सीन के इंजेक्शन की खोज की थी। कोप्रोव्स्की ने जीवित पोलियो विषाणु का प्रयोग कर पोलियो वैक्सीन  (Polio Vaccine) को विकसित किया था जिसे मनुष्य पर पहली बार 1950 में प्रयोग किया गया।

यह भी पढ़ेStock Market: लगातार गिरावट के बाद अब बजट पर होगी निवेशकों की नजर

Related Articles

Back to top button