Pramod Bhagat ने बैडमिंटन में भारत को दिलाया चौथा गोल्ड, रचा इतिहास

टोक्यो : मौजूदा बैडमिंटन वर्ल्ड चैंपियन Pramod Bhagat ने शनिवार को टोक्यो पैरालिंपिक के फाइनल मुकाबले में ग्रेट ब्रिटेन के डेनियल बेथेल पर रोमांचक जीत दर्ज करते हुए पुरुष सिंगल्स SL3 कैटेगरी में गोल्ड जीता। इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए बता दें की बैडमिंटन का खेल इस साल ही पैरालंपिक खेलों में पहली बार शामिल हुआ है।

Pramod Bhagat के नाम हैं कई खिताब

इस कड़ी में आपकी जानकरी के लिए बात दें की पांच साल की उम्र में पोलियो हो जाने के कारण प्रमोद भगत का बायां पैर खराब हो गया था। इस के बावजूद उन्होंने वर्ल्ड चैम्पियनशिप में चार गोल्ड समेत 45 अंतरराष्ट्रीय पदक जीते हैं । इस कड़ी में उन्होंने BWF वर्ल्ड चैम्पियनशिप में पिछले आठ साल में दो गोल्ड और एक सिल्वर पदक जीता। साल 2018 के पैरा एशियाई खेलों में उन्होंने एक गोल्ड और एक ब्रॉन्ज भी जीता था।

इस के साथ साथ आपकी जानकारी के लिए बता दे की भारत के सुहास यथिराज और कृष्णा नागर भी अपनी-अपनी क्लास में पुरूष सिंगल्स फाइनल में पहुंच चुके हैं। इस कड़ी में आपकी जानकारी के लिए बता दे SL3 क्लास में सिर्फ उन एथलीट्स को हिस्सा लेने की अनुमति होती है, जिनके पैर में कोई विकार या कमी होती है।

यह भी पढ़ें : Amity यूनिवर्सिटी ने डीआरडीओ के साथ मिलकर शुरू किया डिफेंस टेक्नोलॉजी कोर्स

 

Related Articles