अंतिम सफ़र पर प्रणब दा, ‘कहा था हमेशा रहूँगा PM’

नई दिल्ली: देश के पूर्व राष्ट्रपति भारत रतन प्रणब मुखर्जी का कल शाम 84 वर्ष की उम्र में निधन हो गया। बीते 10 अगस्त को वो अस्पताल में भर्ती हुए थे। उसी दिन उनकी ब्रेन सर्जरी हुई थी जिसके बाद से वो कोमा में थे। उनकी कोरोना रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई थी। जिसके बाद उनके फेफड़ों में संक्रमण बढ़ गया था। सेना अस्पताल में डोक्टरों की टीम उनके इलाज में लगी थी। देश के तमाम बड़े नेताओं ने प्रणब मुखर्जी को श्रधांजलि दी। देश के मौजूदा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, उप राष्ट्रपति वेंकैय्या नायडू, कांग्रेस नेता राहुल गाँधी समेत कई नेताओं ने उनको श्रधांजलि दी है।

अब उनके पार्थिव शरीर को अंत्येष्टि के लिए ले जाया जा रहा है। इस दौरान सभी लोगों से PPE किट पहनी हुई है। उनके बेटे उन्हें कन्धा दे रहे हैं इस दौरान उन्होंने भी PPE किट पहनी हुई है।

कहा था हमेशा रहूँगा PM

प्रणब मुखर्जी 2012 से 2017 तक देश के राष्ट्रपति रहे। उससे पूर्व उन्होंने देश में कई अहम मंत्रालयों की जिम्मेदारी भी संभाली। प्रणब दा UPA सरकार में हमेशा संकटमोचक की भूमिका में रहे हैं। गंभीर और जटिल मुद्दों पर तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह उनसे सलाह लेते रहे हैं। एक बार एक समाहरोह में उन्हीने कहा देश में प्रधानमंत्री आते जाते रहेंगे पर मैं हमेशा PM रहूँगा। इससे उनका अभिप्राय अपने नाम से था। उनका नाम राजनैतिक गलियारों में राजनितिक दल से ऊपर था। आज उनकी अंतिम विदाई पर सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों की ऑंखें नम हैं।

Related Articles