आरएसएस के कार्यक्रम में जाने के खिलाफ हुईं प्रणब मुखर्जी की बेटी, दी बड़ी नसीहत

नई दिल्ली। आज शाम पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए पहुंच चुके हैं। इस कार्यक्रम का आयोजन नागपुर के संघ मुख्यालय में होना है। नागपुर पहुंचे ही उनका स्वागत अगवानी आरएसएस के सहसरकार्यवाह वी भागैय्या ने किया है। बीते कुछ दिनों से इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए काफी विवाद चल रहा था। पूर्व राष्ट्रपति के इसमें शरीक होने के लिए कुछ नेताओं ने भी आपत्ति जताई थी। कहा जा रहा है जहां एक तरफ कुछ नेता आपत्ति जता रहे थे। वहीं अब इस लिस्ट में उनकी बेटी शर्मिष्ठा मुखर्जी भी शामिल हो गई है।

हाल ही में उन्होंने अपने पिता को एक ट्वीट करके नाराज़गी जाहिर की है। जिसमें उन्होंने कहा है कि पूर्व राष्ट्रपति ने इस कार्यक्रम में शामिल होकर बीजेपी और आरएसएस को फर्जी खबरें गढ़ने का मौका दिया है। उनकी यह बयान उस दौरान सामने आया है जब ऐसी संभावना जताई जा रही है कि वह बीजेपी की पार्टी में शामिल होकर पश्चिम बंगाल से इस बार आगामी चुनाव में खड़ी हो सकती है।साथ ही कहा जा रहा है शर्मिष्ठा दिल्ली कांग्रेस महिला विंग की अध्यक्षता भी छोड़ सकती है।

ट्वीट करते हुए उन्होंने कहा कि आशा करती हूं कि प्रणब मुखर्जी को आज की घटना से इसका अहसास हो गया होगा कि भाजपा का डर्टी ट्रिक्स विभाग किस तरह काम करता है। आगे वह लिखती हैं कि यहां तक कि आरएसएस कभी यह कल्पना भी नहीं करेगा कि आप अपने भाषण में उनके विचारों का समर्थन करेगे। लेकिन भाषण को भुला दिया जाएगा और तस्वीरें रह जाएंगी तथा इनको फर्जी बयानों के साथ फैलाया जाएगा।’

उन्होंने कहा, ‘आप नागपुर जाकर भाजपा/आरएसएस को फर्जी खबरें गढ़ने, अफवाहें फैलाने और इनको किसी न किसी तरह विश्वसनीय बनाने की सुविधा मुहैया करा रहे हैं और यह तो सिर्फ शुरुआत भर है।

बता दें पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी आरएसएस के स्वयं सेवकों के लिए आयोजित संघ दीक्षा समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर शामिल होने वाले हैं। हालांकि, कहा जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी ने इस कार्यक्रम के बारे में कोई अधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं जाहिर की है।

Related Articles