कोरोना टीकाकरण (Vaccination) अभियान को लेकर तैयारियां जोरों पर, मुख्य सचिव ने की अहम बैठक

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी की अध्यक्षता में आगामी 16 जनवरी से कोविड-19 टीकाकरण (Vaccination) के प्रथम चरण के तैयारी का आंकलन करने के लिए स्टेट स्टेयरिंग कमेटी फाॅर इम्यूनाजेशन की बैठक आयोजित की गयी। बैठक में उन्होंने पूरे प्रदेश में टीकाकरण अभियान के तैयारियोें की जानकारी लेते हुए आवश्यक निर्देश दिये।

पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मियों का होगा टीकाकरण

मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने कोविड-19 टीकाकरण (Vaccination) कार्यक्रम की समीक्षा के दौरान बताया कि पहले दिन 317 सत्र उत्तर प्रदेश में संचालित किये जायेंगे, जिसमें से जिला महिला अस्पताल वाराणसी और एमएलबी मेडिकल काॅलेज, झांसी में टु-वे वेबकास्टिंग की जायेगी वहीँ अन्य 315 सत्र केवल व्यू ओनली मोड पर रहेंगे।

उन्होंने निर्देश दिये कि टीकाकरण (Vaccination) शुभारम्भ के दिन प्रदेश के समस्त कोविड अस्पतालों के चिकित्सकों एवं स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण प्राथमिकता के आधार पर करा दिया जाये।

आशा, आंगनबाड़ी भी पहले चरण में शामिल

अपर मुख्य सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अमित मोहन प्रसाद ने बैठक में बताया कि प्रथम चरण में हेल्थ वर्कर्स का कोविड-19 टीकाकरण (Vaccination) किया जाना प्रस्तावित है, जिसमें प्रदेश के समस्त सरकारी एवं गैर सरकारी स्वास्थ्य इकाईयों में कार्यरत अधिकारी एवं कर्मचारी सम्मिलित हैं। साथ ही स्वास्थ्य विभाग से सम्बन्धित अन्य विभागों के कर्मियों, आशा, आंगनबाड़ी, सुपरवाइजर को भी सम्मिलित किया जाना है।

दूसरे चरण में इनकों लगेगा वैक्सीन

द्वितीय चरण में अन्य विभागों के फ्रन्टलाइन वर्कर्स का कोविड-19 टीकाकरण किया जाना प्रस्तावित है, जिसमें मुख्य रूप से राज्य एवं केन्द्रीय पुलिस विभाग, सशस्त्र बल, होमगार्ड, जेल कर्मचारी, आपदा प्रबन्धन एवं नगरपालिकाओं के अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं का कोविड-19 टीकाकरण (Vaccination) किया जाना प्रस्तावित है।

तीसरे चरण में 50 वर्ष से अधिक आयु के लोग

तीसरे चरण में 50 वर्ष से अधिक आयु के समस्त लोगों तथा 50 वर्ष से कम किन्तु डायबिटीज, सांस रोग, कैन्सर, उच्च रक्त चाप जैसे रोगों से ग्रसित व्यक्तियों का टीकाकरण किया जाना प्रस्तावित है।

1500 स्थान टीकाकरण के लिए होंगे चिन्हित

उन्होंने यह भी बताया कि टीकाकरण (Vaccination) अभियान के प्रथम चरण के लिए प्रदेश में लगभग 1500 स्थान चिन्हित किये जाने हैं। प्रथम चरण की गतिविधियां मुख्य रूप से सरकारी चिकित्सालयों में नियोजित किया जाना है, जिसमें मुख्य रूप से स्वास्थ्य केन्द्र, ब्लाॅक स्तरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, जिला चिकित्सालय, जिला संयुक्त चिकित्सालय, जिला महिला चिकित्सालय, नगरीय स्वास्थ्य केन्द्र, रेलवे अस्पताल, सीजीएचएस चिकित्सालय, सरकारी एवं प्राइवेट मेडिकल काॅलेज आदि को चयनित किया जाना है।

बड़े चिकित्सालयों में स्थान उपलब्ध होने पर तीन से अधिक सत्र आयोजित किये जा सकते हैं। प्रत्येक सत्र के लिए तीन कमरों की आवश्यकता होगी, जिन्हे प्रतीक्षालय, टीकाकरण कक्ष एवं निगरानी कक्ष के रूप में प्रयोग किया जायेगा।

यह भी पढ़ें: 200 देशों में खेले जाने वाले Basketball का आज है Happy Birthday, गूगल (Google) ने बनाया खास डूडल

Related Articles

Back to top button