NEET की परीक्षा रद्द करने की शुरू तैयारी, अब इस सरल तरीके से मेडिकल में मिलेगा दाखिला

नई दिल्ली: देश मे अक्सर आत्महत्या के मामले परीक्षा व उनके परिणाम के डर की वजह होती है। ऐसी ही घटना सलेम के रहने वाले छात्र ने NEET परीक्षा से पहले जान दे दी। इस घटना की चर्चा सोमवार को पूरे तमिलनाडु विधानसभा में हुई। इन घटना को गंभीरता से लेते हुए राज्य सरकार ने एक बड़ा फैसला लेते हुए विधानसभा में NEET परीक्षा को रद्द करने के लिए एक विधेयक पारित किया है।

इस विधेयक में कहा गया कि एमबीबीएस/बीडीएस की प्रवेश परीक्षा के लिए 12 वीं कक्षा के अंकों को आधार बनाया जाए। विधानसभा में सरकार के इस विधेयक का अन्नाद्रमुक ने समर्थन तो कर दिया लेकिन भाजपा ने इसका विरोध करते हुए सदन से वाकआउट किया। इस विधेयक में सरकार ने राष्ट्रपति से प्रदेश के मेडिकल स्टूडेंट को नीट एग्जॉम में स्थायी तौर पर छूट देने की मांग की गई है।

प्रमुख विपक्षी दल अन्नाद्रमुक ने सरकार को निशाना बनाया जबकि मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने राज्य में नीट परीक्षा आयोजित नहीं करवाने और मेडिकल पाठ्यक्रमों में कक्षा 12 में प्राप्त अंकों के आधार पर प्रवेश देने के लिए एक विधेयक पेश किया। अगर विधेयक दोनों सदन में पास जो जाते है तो आने वाले समय मे मेरिट के आधार पर मेडिकल को पढ़ाई कर सकेंगे।

Related Articles