राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पुष्कर में शांति और समृद्धि के लिए की प्रार्थना

जयपुर। पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम के बाद अब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने एक ऐसा कदम बढ़ाया है जिनसे उन्हें अन्य अभी तक के अन्य सभी राष्ट्रपतियों से अलग लाकर खड़ा कर दिया है। दरअसल, रामनाथ कोविंद इस समय सियाचीन दौरे पर थे। पिछले 14 वर्षों में पहले ऐसे राष्ट्रपति हैं जो सियाचीन का दौरा कर रहे थे। इसके बाद राष्ट्रपति राजस्थान के पुष्कर के मंदिर में हाल ही में दर्शन किए हैं।

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने पुष्कर के ब्रह्मा मंदिर और राजस्थान के अजमेर में ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह का दौरा किया और देश में शांति और समृद्धि के लिए प्रार्थना की। इस दौरान उनकी पत्नी सविता और बेटी स्वाति भी थीं।
कोविंद पुष्कर सरोवर के लिए रवाना हो गए थे, जहां उन्हों ने प्रार्थना की और लगभग 10 मिनट बिताए। इसके बाद राष्ट्रपति ने ब्रह्मा मंदिर का दौरा किया वह मंदिर के भीतर नहीं गए, लेकिन उनकी बेटी ने अंदर जाकर प्रार्थना की।

इसके बाद राष्ट्रपति अजमेर गए, जहां उन्होंने ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह का दौरा किया। कोविंद ने यहां चादर भी चढ़ाई। दीवान जैनुल अबेदिन अली खान ने कोविंद को भगवद्गीता की एक प्रति भी दी। यह राष्ट्रपति बनने के बाद कोविंद की राजस्थान की दो दिवसीय यात्रा का हिस्सा था।

Related Articles