ऐसे सरकारी स्कूल शायद देश के किसी प्रदेश में नहीं होंगे

utt-school-2

रुद्रप्रयाग। जिले में प्राथमिक विद्यालयों में तेजी से घट रही छात्र संख्या सरकार की शिक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े कर रही है। पिछले तीन वर्षो में छात्र संख्या नौ सौ कम हो चुकी है। जबकि नौ प्राथमिक विद्यालयों में एक भी छात्र नहीं है।

प्रदेश सरकार जहां शिक्षा के नाम पर करोड़ों रुपये पानी की तरह बहा रही है, वहीं जिले में प्राथमिक शिक्षा की स्थिति दिन-प्रतिदिन खराब होती जा रही है। जिले में फिलहाल 569 विद्यालय हैं। तेजी से घट रही छात्र संख्या के चलते अब तक नौ विद्यालयों में ताला लग चुका है। इनमें से कई विद्यालयों में 4-5 छात्र हैं।

ये भी पढ़ें – उत्तराखंड यूनिवर्सिटी एक्ट बनने से उच्च शिक्षा और सुधरेगी

utt-school-3

हर साल शिक्षकों को शिक्षा के प्रचार-प्रसार का प्रशिक्षण तो दिया जाता है, लेकिन उसका कोई असर होता नहीं दिख रहा है। यहां छात्रों की संख्या बढ़ने के बजाय घट रही है। ग्रामीण इलाकों के स्कूलों का हाल तो और भी बुरा है। अभिभावक सरकारी विद्यालयों में शिक्षा का हाल देखते हुए अपने बच्चों का दाखिला प्राइवेट स्कूलों में करा रहे हैं।

जिले में प्राथमिक विद्यालयों की स्थिति -569

जिले में 10 के करीब छात्र संख्या वाले विद्यालय-95

ये भी पढ़ें – उत्तराखंड PCS-J प्री की एग्जाम डेट घोषित

utt-school-4

यह विद्यालय हुए बंद –

धारवाली, सोलून, बष्टी, त्यूंग, देवशाल, बंडरी, फारतोली, पाली नवीन, गिंवाडीगांव।

 

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button