प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने निजी क्षेत्र से निवेश बढ़ाने की अपील की

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्योग संगठन एसोचैम की स्थापना के 100 पूरे होने के अवसर पर स्थापना सप्ताह समारोक को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए संबोधित किया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि आज भारतीय अर्थव्यवस्था पर दुनिया को भरोसा है। कोविड-19 महामारी के दौरान भारत में रिकॉर्ड विदेशी निवेश आया है। लेकिन साथ ही घरेलू उद्योगों द्वारा निजी निवेश भी बढ़ाने की जरूरत है, खासकर अनुसंधान एवं विकास पर निवेश बढ़ाना आवश्यक है।

महामारी के कारण सरकारी संसाधनों पर बढ़े दबाव के बीच अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए निजी क्षेत्र द्वारा निवेश बढ़ाना जरूरी है। दूसरी ओर निजी क्षेत्र पर भी महामारी की मार पड़ी है जिससे निजी निवेश बढ़ाना बड़ी चुनौती भी है। उन्होंने कहा “भारत में आरएंडडी (अनुसंधान एवं विकास) पर निवेश बढ़ाए जाने की बहुत जरूरत है। अमेरिका में आरएंडडी पर 70 प्रतिशत निवेश निजी क्षेत्र द्वारा होता है जबकि अपने देश में 70 प्रतिशत निवेश सरकार द्वारा होता है।”

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में आरएंडडी पर जो निजी निवेश होता है उसका एक बड़ा हिस्सा आईटी, फार्मा और परिवहन क्षेत्र तक सीमित है। कृषि, रक्षा, ऊर्जा, निर्माण जैसे सेक्टरों में हर छोटी-बड़ी कंपनी को आरएंडडी के लिए एक निश्चित हिस्सा तय करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि सरकार प्रोत्साहन दे सकती है, नीतियों में बदलाव कर सकती है, लेकिन सरकार के इस समर्थन को सफलता में बदलने का काम उद्योग जगत कर सकता है। पिछले छह साल में डेढ़ हजार से ज्यादा कानून समाप्त किये गये और दूसरी ओर जरूरी नये कानून बनाये गये हैं। संसद के पिछले मानसून सत्र में पारित कृषि कानूनों का बचाव करते हुये उन्होंने कहा कि छह महीने पहले जो कृषि सुधार किये गये उनके लाभ किसानों को मिलने शुरू हो गये हैं।

यह भी पढ़ें: PM किसान सम्मान निधि योजना में फर्जीवाड़ा का खुलासा

Related Articles