प्रियंका नही अजय राय को मिला वाराणसी से टिकेट, त्रिकोणीय लड़ाई में PM मोदी कैसे होंगे आगे

वाराणसीः देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक बार फिर वाराणसी से चुनाव लड़ेंगे. यह दूसरा मौका है जब नरेंद्र मोदी वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे. पीएम मोदी कल अपना नामांकन पर्चा दाखिल करेंगे. पीएम के नामांकन को लेकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने जोर शोर से तैयारियां की है. वाराणसी शहर को बीजेपी के झंडों और पोस्टरों से पाट दिया गया है. आज पीएम मोदी का यहां 7 किलोमीटर का लंबा रोड शो है.

साल 2014 के चुनाव में पीएम मोदी ने वाराणसी से जीत दर्ज की थी. उन्होंने अपने निकटतम प्रतिद्वंदी और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल को 3 लाख 71 हजार से ज्यादा वोटों से हराया था. इस सीट पर केजरीवाल को 2,09,23 वोट मिले थे जबकि विजयी उम्मीदवार नरेंद्र मोदी को 5,81,022 वोट मिले थे.

इस बार उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी गठबंधन करके चुनावी मैदान में है. गठबंधन ने शालिनी यादव को अपना उम्मीदवार बनाया है. वहीं कांग्रेस ने एक बार फिर से पूर्व प्रत्याशी अजय राय पर अपना भरोसा जताया है.

वाराणसी लोकसभा में करीब 18 लाख वोटर हैं. जिनमें जाति के हिसाब से अगर देखें तो लगभग 2 लाख कुर्मी, 1 लाख यादव, 2.5 लाख मुस्लिम, 70 हजार राजपूत, 2 लाख बनिया वोटर हैं. इसके अलावे करीब 1.5 लाख भूमिहार और 2 लाख ब्राह्मण वोटर हैं.

सबसे ज्यादा वोटरों की बात करें तो यहां कुर्मी समाज के काफी वोटर वाराणसी लोकसभा में हैं. खासकर रोहनिया और सेवापुरी क्षेत्र में ये संख्या ज्यादा है. इस सीट पर वैश्य, यादव और मुस्लिम वोटरों की संख्या यहां निर्णायक भूमिका में होती है.

पिछले चुनाव की अगर बात करें तो बीजेपी को कुल वोट का करीब 56.37 प्रतिशत वोट मिले थे. वहीं आप को 20.30 प्रतिशत. कांग्रेस के उम्मीदवार अजय राय 7.34 प्रतिशत वोट पाने में कामयाब हुए तो वहीं बीएसपी 5.88 जबकि एसपी को 4.39 प्रतिशत वोट मिले थे.

बता दें कि वाराणसी में सातवें और अंतिम चरण में मतदान है. वोटों की गिनती 23 मई को होगी.

Related Articles