ऑक्सीजन की सप्लाई के लिए प्रदर्शनकारी किसान खोलेंगे सिंघू बॉर्डर का हिस्सा

ऑक्सीजन ( oxygen ) वाले वाहनों, एम्बुलेंस ( Ambulance ) और ऐसे अन्य आपातकालीन वाहनों को रास्ता देने के लिए सिंघू बॉर्डर पर राजमार्ग के एक तरफ की सड़क पर लगे बैरिकेड को हटाने का निर्णय लिया गया.

नई दिल्ली: केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पिछले कई महीनों से किसान धरने पर बैठे हुए है. जिससे उस रूट पर आवगमन बाधित चल रहा है लेकिन माजूदा स्तिथि को देखेते हुए किसानों ने बृहस्पतिवार को कहा कि मेडिकल ऑक्सीजन ( Medical oxygen ) ले जाने वाले वाहनों को रास्ता देने के लिए सिंघू बॉर्डर पर राजमार्ग के एक हिस्से को खोला जाएगा.

यह फैसला हरियाणा सरकार ( Government of Haryana ) के अधिकारियों के साथ शाम को हुई मुलाकात के बाद संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने लिया. मोर्चे के नेता दर्शनपाल ने अपने बयान में कहा, ‘बैठक में ऑक्सीजन ( oxygen ) वाले वाहनों, एम्बुलेंस ( Ambulance ) और ऐसे अन्य आपातकालीन वाहनों को रास्ता देने के लिए सिंघू बॉर्डर पर राजमार्ग के एक तरफ की सड़क पर लगे बैरिकेड को हटाने का निर्णय लिया गया.

Coronavirus Update In India How Oxygen Is Made Which Companies Are Helping  In The Coronavirus - कैसे बनती है ऑक्सीजन: कोरोना काल में कौन सी कंपनियां  कर रही हैं मदद, यहां जानें

मोर्चे के नेता दर्शनपाल ने कहा कि प्रदर्शनकारी किसान कोविड-19 महामारी से निपटने में हरसंभव सहायता करेंगे. बयान के मुताबिक, बैठक में सोनीपत के पुलिस अधीक्षक, मुख्यमंत्री काार्यालय ( Chief Minister’s Office ) के अधिकारी और संयुक्त किसान मोर्चा ( United peasant front ) के नेता मौजूद रहे. दर्शन पाल ने प्रदर्शनकारी किसानों द्वारा दिल्ली को होने वाली ऑक्सीजन की आपूर्ति बाधित किए जाने के आरोपों को निराधार करार दिया है.ओंर कहा इस गंभीर स्तिथि में हम हर संभव मदद के लिए तैयार है.

यह भी पढ़े: Maharashtra में फिर दर्दनाक हादसा, कोविड अस्पताल में आग लगने से 13 मरीजों की मौत, दोषियों पर कार्रवाई के आदेश

Related Articles