रूस के राष्ट्रपति से जनता नाराज, -50 डिग्री में किसके लिए सड़क पर उतरे प्रदर्शनकारी

रूस: रूस के राष्ट्रपति (President) व्लादिमिर पुतिन के खिलाफ बड़े पैमानों पर विरोध में प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतरे हुए हैं। ये सभी पुतिन के विरोधी नेता एलेक्सी नवेलनी (Alexei Navalny) को जेल से रिहा कराने की मांग कर रहे हैं। राष्ट्रपति (President) पुतिन के खिलाफ सबसे बड़े विरोध प्रदर्शन के बीच कई जगहों पर पुलिस को प्रदर्शनकारियों पर बल का प्रयोग करना पड़ा। इस दौरान दोनों के बीच झड़प हुई और पुलिस प्रदर्शनकारियों को पीटते और उन्हें घसीटते हुए दिखाई दे रहे। कई जगहों पर माइनस 50 डिग्री तापमान होने के बावजूद प्रदर्शन में तीन हजार से भी ज्यादा लोगों ने हिस्सा लिया।

मॉस्को से लेकर रूस के कोने-कोने में इस ठंड में भारी बर्फबारी जारी है लेकिन इसकी चिंता करें बगैर लोग सड़कों पर निकल आए और विरोध प्रदर्शन करने लगे। गिरफ्तारी-निगरानी समूह ‘ओवीडी-इन्फो के अनुसार, देशभर के 109 शहरों में अब तक 3100 लोगों को हिरासत में लिया जा चुका है। आपको मालूम हो की दुनिया के सभी देशो में सबसे अधिक ठंड वाला देश रूस है, जहां का तापमान फिलहाल -20 से -50 तक भी जा रहा है। तो आखिर क्या वजह है, जो पुतिन के खिलाफ इस विरोधी के लिए इतना भारी जनसैलाब उमड़ा हुआ है?

ये भी पढ़ें : मारपीट में घायल युवक ने तोडा दम, ग्रामीणों में आक्रोश का माहौल

एलेक्सी ने किया था विरोध

राष्ट्रपति पुतिन के कड़े आलोचक माने जाने वाले एलेक्सी (45) लगातार रूस सरकार की यूनाइटेड रशिया पार्टी में भ्रष्टाचार का विरोध करते आए हैं। साल 2002 के जून में ही संवैधानिक सुधारों पर हुई वोटिंग को लेकर एलेक्सी ने बगावत की थी। उन्होंने कहा था ये संविधान का उल्लंघन है। राष्ट्रपति पुतिन का कार्यकाल तीन साल बाद खत्म होना है। पिछले साल जून में संवैधानिक सुधारों पर देशस्तर पर चुनाव हुआ इससे वे 2024 के बाद भी अगले 16 सालों के लिए सत्ता में रह सकते हैं। तभी एलेक्सी ने रूस सरकार पर उंगली उठाई और कहा पुतिन संविधान के साथ छेड़छाड़ कर रहे थे।

ये भी पढ़ें : ब्लॉक प्रमुख के 826 पदों पर बीजेपी की नजर, जानिए क्या है प्लान

Related Articles

Back to top button