जौनपुर में हाईवे पर हर 20 किमी पर बनेंगे सार्वजनिक शौचालय, 42 गांव बनेंगे आदर्श

जौनपुर के उपायुक्त मनरेगा भूपेन्द्र सिंह ने आज कहा कि गांवों को समृद्ध बनाने की कवायद तेज कर दी गई है और इसी कड़ी में जिले के 42 गांवों को आदर्श गांव में विकसित करने की तैयारी की गई है।

जौनपुर:  उत्तर प्रदेश में जौनपुर से गुजरने वाले हाईवे पर हर बीस किलोमीटर पर सार्वजनिक शौचालय बनाये जायेंगे ।
जिलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने आज कहा कि मुसाफिरों की सुविधा को ध्यान में रखते हुए अब हाइवे पर हर बीस किलोमीटर पर सार्वजनिक शौचालय बनाया जाएगा। प्रत्येक शौचालय पर वाटर कूलर के साथ ही बैठने के लिए भी पर्याप्त व्यवस्था की जाएगी। जिला प्रशासन की ओर से इस पहल को अमल में लाने के लिए जरूरी औपचारिकताओं को पूरा किया जा रहा है। अगले कुछ दिनों में निर्माण शुरू करा दिया जायेगा।

उन्होंने कहा कि सार्वजनिक शौचालयों को बनाने की जिम्मेदारी ग्राम पंचायतों को दी गई है। जिले में कुल 60 स्थानों को इसके लिए चिन्हित किया गया है। प्रथम चरण में 14 का निर्माण कराया जाएगा। यह पहल अपने आप में काफी खास है। फिलहाल इस तरह की व्यवस्था शायद ही किसी स्थान पर हो।

कुछ जगहों पर मखमली घास भी लगवाई जाएगी

उन्होंने कहा कि निर्माण में होने वाले खर्च का आकलन किया जा रहा है। सार्वजनिक शौचालयों के निर्माण के साथ कुछ जगहों पर मखमली घास भी लगवाई जाएगी। इसके साथ ही पेयजल की भी पर्याप्त व्यवस्था होगी। हाइवे पर सार्वजनिक शौचालयों की व्यवस्था न होने की वजह से मुसाफिरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ता है, जिससे जल्द ही निजात मिलने की संभावना है।

जौनपुर में 42 गांव बनेंगे आदर्श : उपायुक्त मनरेगा

जौनपुर के उपायुक्त मनरेगा भूपेन्द्र सिंह ने आज कहा कि गांवों को समृद्ध बनाने की कवायद तेज कर दी गई है और इसी कड़ी में जिले के 42 गांवों को आदर्श गांव में विकसित करने की तैयारी की गई है।

यहां न सिर्फ बुनियादी सुविधाओं को बेहतर किया जाएगा, बल्कि व्यवस्थाओं को भी दुरुस्त किया जाएगा। इस पहल में 21 ब्लाकों के दो-दो ग्राम पंचायतों का चयन किया गया है। जल्द ही चिन्हित गांवों का नजारा बदला-बदला सा नजर आएगा। व्यवस्था को अमलीजामा पहनाने को भारी-भरकम बजट भी खर्च किया जाएगा।

प्रत्येक ब्लाक के दो-दो ग्राम पंचायतों में मनरेगा पार्क का निर्माण

उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में प्रत्येक ब्लाक के दो-दो ग्राम पंचायतों में मनरेगा पार्क का निर्माण कराया जा रहा है। कुछ गांवों में पार्क बनकर तैयार हो चुके हैं, जबकि कुछ में निर्माण अंतिम चरण में हैं। मनरेगा द्वारा बनाए जा रहे इन पार्कों में 20 लाख रुपये से लेकर 40 लाख तक खर्च किए जा रहे हैं। शानदार पार्कों के बनने से गांव का नजारा भी बदल गया है। ऐसे में अब जरूरी अन्य संसाधनों को मजबूत कर इन्हें आदर्श गांव के रूप में विकसित किया जाएगा।

मनरेगा पार्क में कुश्ती के लिए अलग स्थान

उन्होंने कहा कि गांव के हर घर के सामने डस्टबिन रखी जाएगी, जिससे कूड़ा इधर-उधर न फेंका जा सके। सफाई कर्मचारियों को भी गांव में विशेष साफ-सफाई के लिए निर्देशित किया जाएगा। प्रत्येक मनरेगा पार्क में कुश्ती के लिए अलग स्थान बनाया गया है। साथ ही बैडमिटन कोर्ट भी बने हैं। यहां पर युवाओं को इसके लिए प्रशिक्षित किया जाएगा। गांव के अच्छे खिलाड़ियों को भी इस पहल का हिस्सा बनाया जाएगा।

ये भी पढ़ें:  खेल मंत्रालय ने ऐलान किया ‘नया प्रोत्साहन ढांचा’, 500 निजी अकादमियों को आर्थिक सहायता

Related Articles

Back to top button