पुलत्स तिवारी एनकाउन्टर ने लखनऊ पुलिस की कार्यशैली पर खड़े किये सवाल

लखनऊ:लखनऊ के आशियाना थाना क्षेत्र में बीते हफ्ते हुए पुलत्स तिवारी एनकाउंटर में पुलिस विभाग की भूमिका पर सवाल खड़े होने शुरू हो गए हैं.9 अगस्त की  रात पुलत्स और पुलिस के बीच मुठभेड़ की बात पुलिस बताई है.लेकिन एनकाउंटरसे पहले का एक सीसीटीवी फुटेज सामने आया है जिसमें दो लोग जबरजस्ती पुलत्स को कार में बिठा के कहीं ले जा रहे हैं.

पुलिस की भूमिका संदिग्ध

परिजनों का भी कहना है की ये लोग पुलत्स को शाम के तकरीबन 6 बजे अपने साथ ले गए थे. इस फुटेज के सामने आने के बाद लखनऊ  पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खड़े होने लगे हैं.परिजनों ने कहा है की 9 अगस्त को उठा के ले गए और उसी रात को पुलिस ने एनकाउन्टर की बात कही है. इस घटना को लेकर  समाज सेवी नूतन ठाकुर ने भी पुलिस की कार्यशैली पर सवाल खडे किये हैं.साथ ही उन्होंने इस घटना की मानवाधिकार आयोग में भी शिकायत की है.नूतन ठाकुर ने कहा है की इससे पहले भी ऐसी कई घटनाओं में लखनऊ पुलिस की भूमिका संदिग्ध रही है.

क्या था मामला

दरसल ये घटना करीब १ हफ्ते पहले की है.जब यह मामला प्रकाश में आया था.9 अगस्त की रात पुलिस के मुताबिक पुलत्स तिवारी बिना नंबर प्लेट की गाडी से जा रहा था.जब पुलिस ने पीछा किया तो अपराधी ने पुलिस पर फायर कर दिया.जिसके बाद पुलिस को भी गोली चलानी पड़ी.जोकी पुलत्स तिवारी के पैर में लगी.

 

 

Related Articles