पुणे: मदरसे में ‘पाप की कोठरी’, 36 मासूम छुड़ाए गए, मौलाना गिरफ्तार

0

महाराष्ट्र के पुणे शहर में पुलिस ने एक मदरसा पर कार्रवाई की. पुलिस ने मदरसे से कई दर्जन बच्चों को छुड़वाया है। इसके साथ ही मदरसे के मौलवी को एक बच्चे से यौन शोषण के आरोप में गिफ्तार कर लिया है। मदरसे के दो अन्य बच्चों ने बताया कि संस्थान में आने वाले मौलवियों में से एक यौन दुर्व्यवहार करता था, इसलिए वह यहां से भाग गये थे।

पुलिस ने बताया कि पुणे के कटराज कोंधावा इलाके में स्थित मदरसे के मौलाना के खिलाफ यौन शोषण की शिकायत मिली थी। इस संबंध में बाल अधिकार कार्यकर्ता डॉ. यामिनी आदबे ने पुलिस के पास शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद बीती रात मौलाना रहीम (21) को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने मदरसे से 36 बच्चों को मुक्त कराया है। इन बच्चों की उम्र 5 से 15 साल के बीच है। ये मदरसा

रिपोर्ट के मुताबिक, रेलवे पुलिस फोर्स (आरपीएफ) ने पुणे रेलवे स्टेशन पर दो बच्चों को अकेले खड़ा देखा। आरपीएफ को जब इन बच्चों को लेकर शक हुआ, तो उन्होंने बच्चों के लिए काम करने वाले एनजीओ साथी को इन बच्चों के बारे में सूचना दी। इसके बाद पुलिस टीम ने एनजीओ कार्यकर्ताओं के साथ जामिया अमूबुझा दारूल यात्मा पर छापा मारा। पुलिस ने यौन शोषण के आरोप में मौलाना को गिरफ्तार कर लिया है।

भारती विद्यापीठ पुलिस स्टेशन ने मौलाना रहीम की गिरफ्तारी की पुष्टि की है। पुलिस ने मौलाना के खिलाफ जुवेनाइल जस्टिस और पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है। मौलाना रहीम पर आरोप लगाने वाले दो बच्चे बिहार के भागलपुर जिले के हैं। ये दोनों बच्चे 23 जुलाई को मदरसा छोड़ कर भाग गये थे, और रेलवे स्टेशन पर पाये गये थे।

एनजीओ साथी दोनों बच्चों को बाल कल्याण समिति में ले गई, जहां पर दोनों बच्चों की काउंसिलिंग की गई। यौन शोषण के शिकार बच्चों ने मदरसे की खौफनाक बातें पुलिस को बताई। बच्चों ने कहा कि रहीम उन्हें कपड़े खोलने कहता और अपने निजी अंग छूने को कहता।

loading...
शेयर करें