उप्र पुलिस की प्रभावी पैरवी एवं सशक्त अभियोजन के फलस्वरूप अगस्त तक 1,47,158 मामलों में हुई सजा

प्रदेश में एन्टी रोमियो स्क्वायड द्वारा एक नवम्बर से 15 दिसम्बर तक 2,62,350 सार्वजनिक स्थलों जैसे चौराहों, मार्केट, पार्क, विद्यालय आदि पर 12,20,303 लोग चेक किये गये।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा अपराध करने वाले दोषियों के विरूद्ध अभियान चलाकर सशक्त अभियोजन के दिये गये निर्देश के क्रम में इस साल अगस्त तक पुलिस की प्रभावी पैरवी एवं सशक्त अभियोजन के फलस्वरूप 1,47,158 मामलों में सजा करायी है, जिसमें दोषसिद्धि प्रतिशत 97.03 रहा।

पुलिस प्रवक्ता ने आज बताया कि वर्ष 2020 में माह नवम्बर तक 1,72,469 मामलों में जमानते खारिज कराई गयी है और 12,000 अभियुक्तों के विरूद्ध आरोप बनवाये गये है जबकि 70,000 गवाह परीक्षित कराये गये है।

इस दौरान बलात्कार के 89, महिलाओ के अपहरण के 15 दहेज मृत्यु के 97 एवं यौन उत्पीड़न के 13 मामलों में कठोर सजा कराई गयी है।

उन्होंने बताया कि पुलिस महानिदेशक के निर्देशन में महिलाओं व बालिकाओं में सुरक्षा की भावना को और अधिक सुदृढ़ बनाये जाने के उद्देश्य से चलाये जा रहे विशेष अभियान मिशन शक्ति के तहत प्रदेश में एन्टी रोमियो स्क्वायड द्वारा एक नवम्बर से 15 दिसम्बर तक 2,62,350 सार्वजनिक स्थलों जैसे चौराहों, मार्केट, पार्क, विद्यालय आदि पर 12,20,303 लोग चेक किये गये।

इस दौरान 39,206 लोगों को धारा 107/116 के तहत पाबंद किया गया। इसके अलावा 19315 लोगों के खिलाफ शांति भंग करने के आरोप में कार्रवाई की गई जबकि धारा 294 के तहत 1054 मामलें दर्ज कराये गये। उन्होंने बताया कि 1631 आरोपियों पर गुण्डा एक्ट के तहत कार्रवाई की गई जबकि 5039 लोगों के खिलाफ धारा 110 जी के तहत कार्रवाई की।

यह भी पढ़े:

Related Articles