पंजाब, राजस्थान में दुष्कर्म पीड़िता के साथ नहीं होने दूंगा अन्याय: राहुल

गांधी ने शनिवार को ट्वीट किया, "पंजाब और राजस्थान सरकार उत्तर प्रदेश की तरह बलात्कार की घटना को नकार नहीं रही है और ना ही पीड़ित परिवार को धमकाया जा रहा है

नयी दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि उत्तर प्रदेश के हाथरस में जिस तरह से दुष्कर्म पीड़िता के साथ अन्याय हुआ है और घटना को नकारा गया है, पंजाब और राजस्थान मे वह स्थिति नहीं आने दी जाएगी.

गांधी ने शनिवार को ट्वीट किया, “पंजाब और राजस्थान सरकार उत्तर प्रदेश की तरह बलात्कार की घटना को नकार नहीं रही है और ना ही पीड़ित परिवार को धमकाया जा रहा है और ना ही न्याय के दरवाजों को बंद किया जा रहा है. यदि ऐसा होता है तो मैं वहां जाऊंगा और पीड़िता के लिए न्याय की लड़ाई लडूंगा.”

इससे पहले कांग्रेस प्रवक्ता एवं महिला कांग्रेस की अध्यक्ष सुष्मिता देव ने आज यहां संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया कि भारतीय जनता पार्टी पंजाब के होशियारपुर में दुष्कर्म की घटना को लेकर राजनीति कर रही है और केंद्र में उसकी सरकार के तीन तीन वरिष्ठ मंत्री प्रेस कॉन्फ्रेंस में घटना की निंदा कर चुनावी लाभ अर्जित करने का प्रयास कर रहे हैं.

उन्होंने कहा किवित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को प्रेस कांफ्रेंस में आज देश की आर्थिक स्थिति को लेकर बात करनी चाहिए थी लेकिन उन्होंने पंजाब के होशियारपुर में दुष्कर्म की घटना का मामला उठाया और इस घटना को राजनीतिक रंग देने का प्रयास किया. इसी तरह से केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर तथा डाॅ़ हर्षवर्धन ने भी प्रेस कांफ्रेंस में देश की स्थिति पर सरकार का नजरिया रखने की बजाय इस घटना का जिक्र किया और इस पर राजनीतिक करने का प्रयास किया.

केंद्र सरकार के तीनों वरिष्ठ मंत्रियों के बयानों पर हैरानी जताते हुए उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के हाथरस में सितंबर में एक यवती के साथ दुष्कर्म की घटना पर इन तीनों मंत्रियों ने अब तक एक शब्द नहीं बोला है लेकिन होशियारपुर की घटना पर उन्होंने तीन अलग अलग प्रेस कांफ्रेंस करके अचानक अपनी जुबान खोली और इस घटना को राजनीतिक रंग देखकर बिहार विधानसभा के चुनावों में भाजपा को फायदा देने का प्रयास किया है.

उन्होंने इसे घिनौनी राजनीति करार दिया और कहा कि पंजाब सरकार इस घटना को लेकर अत्यंत सतर्क है और वह उत्तर प्रदेश सरकार की तरह दुष्कर्म की घटना को दबाने और पीड़ित परिजनों को परेशान करने का काम नहीं कर रही है.

यह भी पढ़े: बिहार : तीसरे चरण के 78 विधानसभा सीटों पर 1208 उम्मीदवार आजमाएंगे किस्मत

Related Articles