बुलंदशहर में रेप पीड़िता की हत्या के बाद प्रशासन पर उठ रहे सवाल

परिजनों का आरोप है कि पुलिस इस मामले में लापरवाही कर रही है जिसके कारण अपराधियों को गिरफ्तार नही किया गया और मामला इतना आगे बढ़ गया।

बुलंदशहर: बुलंदशहर में एक बच्ची के साथ रेप किये जाने के तीन महीने बाद बच्ची की हत्या तकर दिए जाने के साथ ही प्रशासन पर अब कई सवाल उठ रहे हैं। रेप पीड़िता के मामा ने मीडिया से बताया कि बच्ची के साथ तीन महीने पहले दुष्कर्म किया गया था। उन्होनें इसके लिए पुलिस केस भी दर्ज करवाया था। पुलिस ने इस मामले में केवल एक ही आरोपी को गिरफ्तार किया है जबकि दो अपराधी के खिलाफ कोई भी कार्यवाई नही की जा रही थी।

पुलिस ने बुलंदशहर दुष्कर्म मामले में की लापरवाही

दुष्कर्म पीड़िता का परिवार इस मामले में लगातार तीन आरोपियों के होने की पुष्टि करता रहा है। परिजनों का आरोप है कि पुलिस इस मामले में लापरवाही कर रही है जिसके कारण अपराधियों को गिरफ्तार नही किया गया और मामला इतना आगे बढ़ गया।

दबंगों ने दुष्कर्म पीड़िता के परिवार को धमकाया था

पीड़िता के मामा के अनुसार जब पहला आरोपी गिरफ्तार किया गया उसके बाद से ही दुष्कर्म के परिवार पर सुलह कर लेने का दवाब बनाया जा रहा था। उनके परिवार को धमकाया भी जा रहा था। उन्होने इसकी शिकायत पुलिस में भी की थी परन्तु पुलिस ने इसके खिलाफ कोई भी कार्यवाई नही कि केवल उन्हें आश्वासन देती रही।

दबंगों ने रेप पीड़िता को जिन्दा जलाया

पीड़िता के परिवार के मुताबिक मंगलवार की सुबह जब पीड़िता जब कूड़ा फेकने घर से बाहर गई तो चार दबंगों ने उसे पकड़कर उसके ऊपर केरोसिन का तेल डालकर उसे जिन्दा जला दिया। जब यह घटना हुई उस वक्त बच्ची घर में अकेली थी। इस घटना के बाद पुलिस ने सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है जिनमें तीन लोगों की गिरफ्तारी हो गई है।

दिल्ली अस्पताल में इलाज के दौरान बच्ची की हुई मौत

दिल्ली के अस्पताल में इलाज के दौरान बच्ची की मौत हो गई। परिवार वालों का आरोप है कि अपराधी दबंग लोग हैं और बच्ची एक गरीब परिवार से ताल्लूक रखती है। यदि पुलिस ने समय पर कार्यवाई की होती तो आज बच्ची की जान बच गई होती।

क्षेत्राधिकारी और दो पुलिस ऑफिसर के ऊपर कार्यवाई

इस घटना के बाद वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने उस क्षेत्र के क्षेत्राधिकारी और दो थाना प्रभारी के ऊपर मामले की गंभीरता को समझते हुए काम ना करने के कारण कार्यवाई की है। इस मामले में दो कॉन्स्टेबल को भी निलंबित किया गया है।

बुलंदशहर रेप केस मामले में बुलंदशहर के जहांगीर पुलिस ने सात लोग संजय, काजल, बनवारी, बदन सिंह, वीर सिंह, जसवंत सिंह और गौतम के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

ये भी पढ़ें : युवा संघठनों के बीच बोले रक्षा मंत्री, नये भारत के निर्माण में हरसंभव योगदान दें युवा

Related Articles