टीके पर उठ रहे सवाल, वैक्सीन लगाने के बाद स्वास्थ कर्मी की मौत

गुरुग्राम: कोरोना महामारी से लड़ने के लिए भारत ने 16 जनवरी से जंग छेड़ दी है। पूरे देश में कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेशन का महाभियान शुरू हुआ जो अभी तक चल रहा है। इस बीच हरियाणा के गुरुग्राम से टीका लगाने के बाद एक स्वास्थ कर्मी की संदिग्ध मौत की खबर सामने आई है। परिवार ने आरोप लगाया है कि कोरोना वैक्सीन लगाने के 130 घंटे बाद महिला स्वास्थ कर्मी (Health worker) की मौत हो गई। महिला स्वास्थ कर्मी (Health worker) की मौत से नाराज परिजनों ने न्यू कॉलोनी के थाने में कोरोना वैक्सिनेशन को लेकर शिकायत की है।

जानकारी के मुताबिक, कृष्ण कॉलोनी की रहने वालीं राजवंती भंगरौला (55) के पीएचसी सेंटर में सुपरवाइजर के पद पर तैनात थीं। 16 जनवरी को वैक्सीनेशन का महाभियान शुरू हुआ था और इसी दिन राजवंती को कोरोना का टीका लगाया गया। मृतका के बेटे ने बताया है कि कोरोना टीका लगने के बाद से मां राजवंती की हालत खराब हुई और उनकी मृत्यु हो गई। नाराज परिजनों ने कोरोना वैक्सीनेशन पर तुरंत रोक लगाने की मांग की है।

ये भी पढ़ें : अमेरिका की हालत गंभीर, पद संभालते ही बाइडन ने दिए सख्त निर्देश

इधर, महिला स्वास्थ कर्मी की हुई संदिग्ध मौत के मामले में सीएमओ ने बताया है कि इस मामले की गहनता से जांच की जा रही है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा है, रिपोर्ट आने के बाद ही साफ होगा की इनकी मृत्यु कैसे हुई है। हरियाणा के फतेहाबाद जिला में टीका लगवाने के बाद लोगों में साइड इफेक्ट देखने को मिल रहा हैं। किसी को पूरे शरीर में दर्द, बुखार की शिकायत हो रही है, तो किसी को सिरदर्द की शिकायत रही। डॉक्टरों की नजर में यह मामूली साइड इफेक्ट्स था, जो अमूमन किसी भी प्रकार का टीका लगवाने के बाद होते हैं।

 

 

Related Articles

Back to top button