नोटबंदी से नहीं रघुराम राजन की नीतियों से विकास दर में आई थी कमी : नीति आयोग

0

नई दिल्ली : विकास दर में गिरावट नोटबंदी की वजह से नहीं, बल्कि ऐसा एनपीए समस्या की वजह से हुआ। नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने ये बात कही है उन्होंने यूपीए सरकार और रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन की नीतियों को जिम्मेदार बताया है।

गौरतलब है कि विकास दर में गिरावट नोटबंदी से हुई है ये आरोप लगाये जा रहे थे। लेकिन राजीव कुमार ने इसको पूरी तरह से गलत बताया है। पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह जैसे लोगों ने भी यही कहा था।

राजीव कुमार ने बताया कि विकास दर में गिरावट के लिए एनपीए की समस्या और आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन जिम्मेदार हैं। उन्होंने कहा कि, ‘विकास दर में गिरावट बैंकिंग सेक्टर में एनपीए समस्या बढ़ने की वजह से आ रही थी। जब बीजेपी सरकार सत्ता में आई तो यह आंकड़ा करीब 4 लाख करोड़ रुपया था यह 2017 के मध्य तक बढ़कर साढ़े 10 लाख करोड़ हुआ है।

ये भी पढ़ें…..ज्ञान और प्रेरणा देने वाली बात पत्रकारिता के महत्व को बढ़ाती है: राम नाईक

रघुराम राजन ने एनपीए की पहचान के लिए नई प्रणाली बनाई थी, जिससे बढ़ा। एनपीए बढ़ने की वजह से बैंकिंग सेक्टर ने इंडस्ट्री को उधार देना बंद कर दिया। जिससे भारतीय इकॉनमी के इतिहास में क्रेडिट में आई यह सबसे बड़ी गिरावट थी।

loading...
शेयर करें