राहुल द्रविड़: क्रिकेट का एक ऐसा नाम जिनके आगे अच्छे-अच्छे गेंदबाजों का छुट जाता था पसीना

0

अगर भारतीय क्रिकेट में सादगी के लिए किसी को टैग देना हो हो सबके जुबान पर एक ही नाम आता है, वो है राहुल द्रविड़। भारतीय क्रिकेट टीम में ‘दीवार’,’चट्टान’,’द वाल’ जैसे नामों से मशहूर पूर्व क्रिकेटर राहुल द्रविड़ 45 साल के हो गए हैं। टेस्‍ट हो या वनडे, द्रविड़ के बल्‍ले से खूब रन निकले। उन्‍होंने कई मैच जिताऊ यादगार पारियां भी खेलीं।

द्रविड़ एक ऐसी शख्सियत हैं, जिसने भारतीय क्रिकेट को बड़ी जीत और पारियों के साथ कई अहम सीख भी दी। यह वो शख्स है, जिसने जरूरत पड़ने पर कीपिंग ग्लव्ज भी थामे और विवादों के बीच टीम की कप्तानी भी। 2011 में इसी टीम पर बोझ ना बनने के लिए सेलेक्शन होने के बावजूद रिटारमेंट का ऐलान कर दिया। द्रविड़ ने ये साबित करके दिखाया की क्रिकेट एक जेंटलमैन खेल है और वो उसके महारथी।

राहुल द्रविड़ का जन्म 11 जनवरी 1973 को हुवा, उनका निकनेम ‘जैमी’ है। उनके इस नाम के पीछे की कहानी काफी इंट्रैस्‍टिंग है। दरअसल राहुल के पिता’किसान’ कंपनी में काम करते हैं, जोकि जैम बनाती है। ऐसे में उन्‍होंने अपने बेटे राहुल को जैमी बुलाना शुरु कर दिया।

आज सालों बाद भी द्रविड़ के जिम्मेदार कंधों पर एक अहम जिम्मेदारी है। वह देश के अंडर 19 और इंडिया ए टीम के कोच हैं। जिस वक्त कभी उनके साथ खेले तमाम दिग्गज या तो सीनियर टीम के लिए कोच का पद ढूंढ रहे थे या खुद ही उसकी दावेदारी कर रहे थे, उस वक्त द्रविड़ ने फैसला किया कि अब वह भारत के युवाओं के साथ काम करने चाहते हैं। आज राहुल एक नई भूमिका में दुनिया के सामने हैं।

आपको बताते है राहुल द्रविड़ से जुड़ी कुछ रोचक बाते जो शायद ही आप जानते हो—

  • राहुल द्रविड़ इकलौते नॉन-ऑस्‍ट्रेलियन क्रिकेटर हैं जिन्‍होंने बैडमैन ओरेशन को संबोधित किया है।
  • राहुल द्रविड़ एकमात्र ऐसे क्रिकेटर हैं जिन्‍होंने टेस्‍ट मैच खेलने वाली प्रत्‍येक टीम के खिलाफ शतक जड़ा है। द्रविड़ ने 2004 में बांग्‍लादेश के विरुद्ध सेंचुरी जमाकर यह इतिहास रचा था।
  • माना जाता है कि राहुल द्रविड़ सिर्फ टेस्‍ट मैचों के खिलाड़ी हैं। लेकिन इंग्‍लैंड में हुए 1999 वर्ल्‍डकप में वह सबसे ज्‍यादा रन बनाने वाले क्रिकेटर थे। उन्‍होंने पूरे टूर्नामेंट में 461 रन बनाए थे।
  • 2004-05 में द्रविड़ को सेक्‍सिएस्‍ट स्‍पोर्ट्स पर्सनैलिटी के लिए सबसे ज्‍यादा वोट मिले थे। उन्‍होंने युवराज और सानिया मिर्जा को भी पीछे छोड़ दिया था।
  • द्रविड़ दुनिया के ऐसे एकमात्र खिलाड़ी हैं जो डेब्‍यु मैच मे ही रिटायर हुए थे। जी हां द्रविड़ ने 2011 में इंग्‍लैंड के अगेंस्‍ट टी-20 डेब्‍यु किया था और इसी मैच में उन्‍होंने टी-20 को अलविदा कह दिया था।
  • सौरव गांगुली की तरह द्रविड़ भी पहले क्रिकेट नहीं बल्‍िक दूसरा गेम खेलते थे। द्रविड़ हॉकी प्‍लेयर थे और उनका कर्नाटक जूनियर स्‍टेट टीम में सेलेक्‍शन भी हो गया था।
  • एकबार ऑस्‍ट्रेलिया के दिग्‍गज बॉलर ग्‍लेन मैक्‍ग्रॉथ ने कहा था कि, अगर कोई भारतीय क्रिकेटर ऑस्‍ट्रेलियन टीम में शामिल होने के लायक है, तो वो राहुल द्रविड़ हैं।
  • राहुल द्रविड़ पहले भारतीय कप्‍तान थे जिन्‍होंने साउथ अफ्रीका को उनकी ही धरती पर टेस्‍ट मैच में मात दी थी।
  • आईसीसी ने 2004 में जब आईसीसी बेस्‍ट प्‍लेयर का अवार्ड देने की शुरुआत की। तो द्रविड़ ने उसी साल आईसीसी टेस्ट प्लेयर ऑफ़ द इयर और प्लेयर ऑफ़ थे इयर का अवार्ड जीता था।
loading...
शेयर करें