राहुल गाँधी ने कहा: सरकार किसानों की तकलीफ समझे, कृषि-विरोधी कानून वापस ले

पिछले ढाई महीने से चल रहे किसान आंदोलन से दिल्ली बॉर्डर जाम है जिससे दिल्ली वा आस-पास के कई शहर भी इसका सामना कर रहे है।

नई दिल्ली: पिछले ढाई महीने से चल रहे किसान आंदोलन से दिल्ली बॉर्डर जाम है जिससे दिल्ली वा आस-पास के कई शहर भी इसका सामना कर रहे है। लोगो को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है। अब किसान आंदोलन को लेकर राहुल गाँधी का एक बार फिर बड़ा बयान आया है। राहुल गाँधी ने सरकार को घेरते हुए कहा कि सरकार किसानो को समझने में विफल रही है।

वहीँ किसानो ने कहा है कि उनका यह आंदोलन अब 2 अक्टूबर तक चलेगा जिसको लेकर राहुल गाँधी ने कहा है कि देश के किसान मोदी सरकार से नाउम्मीद हो चुके है। सरकार को तीनो कृषि कानून वापिस लेना चहिये। राहुल गाँधी ने अपने ट्वीट में लिखा, “किसान-मज़दूर के गाँधी जयंती तक आंदोलन के निर्णय से उनके दृढ़ संकल्प के साथ ही ये भी साफ़ है कि वे मोदी सरकार से कितने नाउम्मीद हैं। अहंकार छोड़ो, सत्याग्रही किसानों की तकलीफ़ समझो और कृषि-विरोधी क़ानून वापस लो।

शनिवार को दिल्ली के कई स्थानों पर किसानो ने चक्का जाम किया जिससे आम लोगो का जनजीवन काफी प्रभावित हुआ इसका खास असर पंजाब और हरयाणा में देखने को मिला,जबकि दिल्ली के टिकरी, सिंघु और गाज़ीपुर बॉर्डर पर शान्ति रही। उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में किसान इस चक्का जाम में शामिल नहीं थे। लेकिन कर्नाटक और तेलंगाना में चक्का जाम प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया।

किसान आंदोलन के नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि यह आंदोलन अब अक्टूबर तक चलेगा क्योंकि बड़े कामो में अक्सर ज़्यादा वक़्त लगता है। पीएम मोदी के ‘एक कॉल दूर’ वाले बयान पर राकेश टिकैत ने कहा कि मेरे पास उनका नंबर नहीं है, उनके लिए मेरा नंबर पता करना आसान होगा।

यह भी पढ़े: आचार्य स्वामी विवेकानन्द: सोमवार का देखें राशिफल, इस राशि वालो के बनेंगे बिगड़े काम

Related Articles

Back to top button