‘गौरी लंकेश की हत्या पर पीएम मोदी की चुप्पी के पीछे कोई राज तो नहीं’

0

नई दिल्ली। बेंगलुरु में वरिष्ठ पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश की हत्या की चौतरफा निंदा हो रही है। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी गौरी लंकेश की हत्या की निंदा की है। साथ ही पीएम मोदी पर जमकर हमला बोला है।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि देश में एक खास विचारधारा लोगों पर थोपी जा रही है। पीएम मोदी मौसमी हिंदुत्व नेता हैं। गौरी लंकेश की हत्या पर पीएम मोदी चुप क्यों हैं? उनकी चुप्पी के दो मायने हैं। इससे पहले राहुल गांधी ने गौरी लंकेश की हत्या की निंदा करते हुए ट्वीट किया था।

राहुल गांधी ने लिखा कि सच्चाई को कभी खामोश नहीं किया जा सकता। गौरी लंकेश हमारे दिलों में बसती हैं। मेरी संवेदनांए और प्यार उनके परिवार के साथ हैं। दोषियों को सजा मिलनी चाहिए।

आपको बता दें कि गौरी लोकप्रिय कन्नड़ टेबलॉयड ‘लंकेश पत्रिका’ की संपादक थीं। वो कट्टरपंथी विचारधारा की थीं। नवंबर, 2016 में उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के खिलाफ एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी, जिस कारण उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया गया। इस मामले में उन्हें छह माह जेल की सजा हुई थी।

लंकेश ने कई बार धमकियों का जिक्र भी कर चुकी हैं। मंगलवार को कुछ अज्ञात बाइक सवारों ने गौरी लंकेश की उस वक़्त हत्या कर दी जब वो अपने गाड़ी का दरवाजा खोल रहीं थीं। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, “हमें पता चला है कि गौरी को रात लगभग 8. 30 बजे उस समय बिल्कुल करीब से गोली मारी गई, जब वह राजराजेश्वरी नगर में अपने घर के दरवाजे पर खड़ी थीं।” प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार, गौरी के माथे पर तीन गोलियां दागी गईं और उनकी तत्काल मौत हो गई।

हत्या के बाद चारों तरफ सनसनी मची हुई है। पुलिस ने जांच टीम गठित की है। वहीं आसपास लगी सीसीटीवी फूटेज भी खंघाली जा रही है। इससे पहले साहित्यकार एमएम कलबुर्गी, गोविंद पंसारे और नरेंद्र दाभोलकर की भी इसी तरह हत्या हो चुकी है। ये सभी लोग द्क्षिन्पंथी विचारधारा से संबध रखते थे।

loading...
शेयर करें