नोटबंदी के चार साल पूरे होने पर बोले राहुल गाँधी, ‘मोदी ने सोचसमझ कर लिया था फैसला’

राहुल ने ट्वीट कर कहा कि, 'नोटबंदी प्रधानमंत्री की सोची समझी चाल थी ताकि आम जनता के पैसे से ‘मोदी-मित्र’ पूँजीपतियों का लाखों करोड़ रुपय क़र्ज़ माफ़ किया जा सके। ग़लतफ़हमी में मत रहिए- ग़लती हुई नहीं, जानबूझकर की गयी थी।'

नयी दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में नोटबंदी लागू करने का फैसला जानबूझ के लिया था और इसके जरिये उनका मकसद अपने चंद पूंजीपति मित्रों को फायदा पहुंचाना था।

राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चार साल पहले आज के ही दिन की गई नोटबंदी की घोषणा को राष्ट्रीय त्रासदी बताया और कहा कि इसके माध्यम से उन्होंने चंद पूंजीपतियों को फायदा पहुंचाने का काम किया और पूरे देश को गहरे संकट में डाल दिया था।

उन्होंने ट्वीट किया “नोटबंदी प्रधानमंत्री की सोची समझी चाल थी ताकि आम जनता के पैसे से ‘मोदी-मित्र’ पूँजीपतियों का लाखों करोड़ रुपय क़र्ज़ माफ़ किया जा सके। ग़लतफ़हमी में मत रहिए- ग़लती हुई नहीं, जानबूझकर की गयी थी। इस राष्ट्रीय त्रासदी के चार साल पर आप भी अपनी आवाज़ बुलंद कीजिए।”

गौरतलब है कि नोटबंदी के चार साल पूरे होने के मौके पर कांग्रेस आज मोदी सरकार के खिलाफ देशभर में विश्वासघात दिवस मना रही है और इसके लिए डिजिटल अभियान चला रही है।

ये भी पढ़ें : एक्टर टाइगर श्रॉफ की फिल्म ‘गणपत’ में एक्ट्रेस नुपूर सेनन आ सकती हैं नज़र

Related Articles

Back to top button