आर्थिक सुस्ती पर राहुल बोले, पीएम मोदी और वित्त मंत्री को बिलकुल पता नहीं कि आगे क्या करना है

बजट पेश होने से पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने देश की आर्थिक सुस्ती को लेकर प्रधानमंत्री मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पर हमला किया है। उन्होंने दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को बिलकुल पता नहीं है कि आर्थिक विकास को गति देने के लिए आगे क्या करना है। गौरतलब है कि एक फरवरी को वित्त वर्ष 2020-21 के लिए बजट पेश किया जाएगा।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा कि मोदी और आर्थिक सलाहकारों की उनकी ड्रीम टीम ने सच में अर्थव्यवस्था को बदल रख दिया है। पहले जीडीपी 7.5 फीसदी और मुद्रास्फीति 3.5 फीसदी थी। अब जीडीपी गिरकर 3.5 फीसदी रह गई है और मुद्रास्फीति 7.5 फीसदी हो गई है। प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री को बिल्कुल पता नहीं है कि आगे क्या करना है।

इससे पहले राहुल ने मंगलवार को जयपुर में युवा आक्रोश रैली को संबोधित करते हुए आर्थिक संकट और बेरोजगारी के मुद्दे को लेकर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा था। राहुल ने कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो करोड़ नौकरियों का वादा किया था, लेकिन पिछले साल एक करोड़ युवाओं ने अपनी नौकरियां खो दी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जहां भी जाते हैं सीएए, एनआरसी की बात करते हैं, लेकिन बेरोजगारी सबसे बड़ा मुद्दा है, पर पीएम इस पर एक शब्द भी नहीं बोलते हैं।

राहुल गांधी ने युवाओं को देश की सबसे बड़ी पूंजी बताते हुए कहा था कि 21वीं सदी का हिंदुस्तान अपनी इस पूंजी को बर्बाद कर रहा है क्योंकि युवा पीढ़ी इस देश के लिए जो कर सकती है वह उसे करने नहीं दिया जा रहा है। राहुल गांधी ने कहा, ‘देश के हालात इस देश का हर युवा जानता है और पहचानता है। हर देश के पास कोई न कोई पूंजी होती है हिंदुस्तान के पास उसकी सबसे बड़ी पूंजी उसके करोड़ों युवा हैं। हमारे पास दुनिया के सबसे अच्छे होशियार युवा हैं। पूरी दुनिया इस बात को मानती है कि हिंदुस्तान का युवा पूरी दुनिया को बदल सकता है।’

राहुल ने कहा, आज भी एक आठ वर्षीय बच्चे से पूछें, क्या नोटबंदी से आपको लाभ हुआ या आपको नुकसान हुआ? बच्चे कहेंगे नुकसान। उन्होंने कहा कि पहले हम चीन के साथ प्रतिस्पर्धा कर रहे थे, लेकिन अब दुख की बात है कि चीन ने हमें बहुत पीछे छोड़ दिया है। पूरी दुनिया को पता है कि अगर कोई है जो चीन को टक्कर दे सकता है, तो वह भारत का युवा है।

Related Articles