Rail Roko Abhiyan: किसानों ने किया ‘रेल रोको’ अभियान का ऐलान, जानें अभियान से जुड़ी बातें

कृषि कानूनों के विरोध में किसान ट्रैक्टर रैली के बाद अब कल यानी 18 फरवरी को ‘रेल रोको’ अभियान का ऐलान किया है

नई दिल्ली: कृषि कानूनों (Krishi Kanoon) के विरोध में किसान ट्रैक्टर रैली के बाद अब कल यानी 18 फरवरी को रेल रोको अभियान (Rail Roko Abhiyan) का ऐलान किया है। किसानों का यह रेल रोको अभियान दोपहर 12 बजे से लेकर दोपहर के 3 से लेकर 4 बजे तक जारी रहेगा। किसानों को प्रदर्शन करते हुए आज 84 दिन हो गए हैं।

राकेश टिकैत का बयान

किसान नेता राकेश टिकैत (Farmer leader Rakesh Tikait) ने कहा कि कल रेल रोको अभियान 12 बसे से लेकर 3 से 4 बजे तक रहेगा। हम तो रेल चलाने की बात कर रहे हैं। अगर रेल रोकेंगे तो संदेश देंगे कि रेल चले। गांव के लोग अपने हिसाब से रेल रोको अभियान का संचालन कर लेंगे।

सिंघु बॉर्डर पर कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए बॉर्डर पर सुरक्षाबल की तैनाती जारी है।

यह भी पढ़ेNew York से लौटकर Enjoy कर रहीं सुहाना खान, देखें ग्लैमरस अंदाज में Photos

राहुल गांधी की मछुआरों से बातचीत

पुडुचेरी में मछुआरों से बातचीत करते राहुल गांधी ने किसान आंदोलन के विरोध में कहा कि केंद्र सरकार ने किसानों के खिलाफ 3 कृषि बिल पास किए हैं जिससे किसान काफी परेशान हो रहे हैं। सभी जानते हैं कि किसान देश की रीढ़ हैं। अब आप सोच रहे होंगे मैं आपसे ये बाते क्यों कर रहा हूं? क्योंकि मैं आपको समुद्र का किसान मानता हूं।

दिल्ली पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बोला कि किसान आंदोलन से देश का किसान जुड़ा है। सरकार जिस तरह से जिद्द पर अड़ी है। इसे लेकर पूरे देश के किसान चिंतित और दुखी हैं कि इतने लंबे आंदोलन के बाद भी सरकार उनकी बात को सुनने को तैयार नहीं है। सरकार जिद्द पर आती है, तो आंदोलन पूरे देश में फैलेगा।

यह भी पढ़ेNTLF Conference में PM मोदी बोले ‘डिजिटल ट्रांसजेक्शन से Corruption में आई कमी’, जानें कैसे?

Related Articles

Back to top button