गोरखपुर में रेलवे ने ‘एंटी कोरोना वायरस’ रेल कोच किया तैयार

कोच में आवश्यक सुधार के तहत कोच में लगे शौचालयों में परम्परागत फ्लश बटन के स्थान पर फुट आपरेटेड फ्लश का प्रावधान किया गया है

गोरखपुऱ: पूर्वोत्तर रेलवे के गोरखपुर यांत्रिक कारखाने में प्रयोग के तौर पर एक एलएचबी कोच में आवश्यक सुधार कर उसे कोविड-19 रोधी कोच के रूप में तैयार किया है, जिसे ‘एंटी कोविड कोच‘ का नाम दिया गया है।

पूर्वोत्तर रेलवे के प्रवक्ता ने रविवार को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि कोच में आवश्यक सुधार के तहत कोच में लगे शौचालयों में परम्परागत फ्लश बटन के स्थान पर फुट आपरेटेड फ्लश का प्रावधान किया गया है और इसके साथ ही सभी पानी के नलों एवं लिक्विड साबुन के डिब्बों को भी पैडल आपरेटेड (पैर से) कर दिया गया है। सभी हैण्ड रेलों एवं सिटकनियों पर कापर कोटिंग की गई है।

उन्होेंने बताया कि कापर में एंटी-माइक्रोबियल (रोगाणुरोधी) गुण होते हैं, जिससे कुछ ही घंटों में इन पर आये वायरस निष्प्रभावी हो जाते हैं। कोच में ट्रांसपरेंट टाइटेनियम डाई आक्साइड की कोटिंग की गई है, जो वायरस, वैक्टीरिया एवं फंगस को नष्ट कर देता है। उन्होंने बताया कि इसके अतिरिक्त यह कोटिंग सभी वास वेसिन, प्रसाधन, सीट एवं बर्थ, स्नैक टेबुल, ग्लास विण्डों, फ्लोर सहित यात्री सम्पर्क में आने वाले सभी सतहों की गयी है। इस कोटिंग की प्रभावी लाइफ 12 महीनें तक है।

ये भी पढ़ें : सर्च ऑपरेशन के दौरान श्रीनगर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़

Related Articles