इन ट्रेनों से रेलवे पूरी तरह खत्म करेगा स्लीपर कोच, जल्द दिखेगा ये बड़ा बदलाव

इन ट्रेनों से रेलवे पूरी तरह खत्म करेगा स्लीपर कोच, जल्द दिखेगा ये बड़ा बदलाव

नई दिल्ली: भारतीय रेलवे ट्रेनों में बड़े बदलाव करने की कार्ययोजना तैयार कर रहा है। स्वर्णिम चतुर्भुज योजना के तहत रेलवे लम्बी दूरी की ट्रेनों को अपग्रेड करेगा। लम्बी दूरी की मेल और एक्सप्रेस रेलग़ाडियों से रेलवे स्लीपर कोच पूरी तरह ख़त्म करने की सोच रहा है। रेलवे का ऐसा करने का मक़सद ट्रेनों की रफ़्तार को बढ़ाना है। इन ट्रेनों में बस एसी कोच को रखा जायेगा। इस तरह की नॉन स्लीपर कोच ट्रेनों की रफ्तार 130/160 किमी प्रति घंटा होंगी।

रेलवे के मुताबिक मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों को 130 किमी प्रति घंटा या उससे अधिक की रफ्तार से चलने पर स्लीपर और अन्य नॉन एसी कोच टेक्निकल समस्याएं उत्पन्न करते हैं। इसलिए इस तरह की सभी रेलगाड़ियों से स्लीपर कोच को रेलवे खत्म कर देगा। लंबी दूरी की मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों में फिलहाल 83 AC कोच लगाए जा सकते है। हालांकि रेलवे इस साल के आखिरी तक कोच की संख्या बढ़ाकर 100 कर देगा। वहीं रेलवे का अगले साल तक कोचों की संख्या 200 किए जाना का प्लान है। यानी कि आने वाले समय में यात्रा और ज्यादा आरामदायक और कम समय लेने वाला होगा। हलाकि अच्छी बात यह है की ऐसी ट्रेनों में सेटों का किराया भी सामान्य एसी कोच के मुकाबले कम ही रखे जाने का प्लान है।

रेलवे को अपना नेटवर्क को अपग्रेड करना है

भारतीय रेल अपने रेल के नेटवर्क अपग्रेड करना चाहता है। इसीलिए रेलवे की योजना है कि ऐसी ट्रेनें जिनकी रफ्तार 130 किमी प्रति घंटा या उससे ज्यादा रखनी है उनमें सभी नॉन ऐसी कोच हटाकर एसी कोच ही रखे जाएं। रेल मंत्रालय के प्रवक्ता डीजे नारायण ने कहा कि इन ट्रेनों का किराया भी बहुत ज्यादा नहीं होगा। ज्यादातर रूटों पर मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों की रफ्तार 110 किलोमीटर है।

नॉन एसी कोच भी होंगे

आपको बता दें की कंफ्यूज होने की कोई जरुरत नहीं है। भारतीय रेल ऐसा सभी ट्रेनों के साथ बिलकुल भी नहीं करने जा रहेगा। ऐसा बस तेज़ रफ़्तार वाली ट्रेनों के साथ किया जायेगा। असल में नॉनॉ एसी कोच वाली ट्रेन की रफ्तार एसी कोच वाली ट्रेनों के मुकाबले कम होगी। जानकारी के मुताबिक ऐसी ट्रेन 110 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से चलाई जाएंगी। यह सारा काम फेज वाइज़ किया जाएगा। साथ ही नए एक्सपीरिएंस से सीखते हुए रेलवे आगे की योजना बनाएगा।

ये भी पढ़ें : मुंबई में थमी भागती ज़िंदगियों की रफ़्तार, बिजली गुल होने से लोकल में फंसे लोग

Related Articles