उत्तराखंड के मैदानी इलाकों में बारिश बर्फबारी हुई आज कई इलाको में ओले भी गिरे

उत्तराखंड: के मैदानी इलाकों में सुबह से होती रही बारिश जबकि ऊंचाई वाले अधिकतर इलाकों में बादल छाए रहे है। वहीं रुद्रप्रयाग सहित केदारनाथ में भी बादल छाए हैं। मौसम विभाग ने आज भी देश भर में बारिश और बर्फबारी होने का अनुमान जताया जा रहा है। जबकि कई इलाको में ओले भी गिर सकते हैं।बीते कुछ दिनो से मसूरी व आसपास में रुक रुक कर लगातार बारिश हो रही है। आज सुबह भी करीब 5:00 बजे मसूरी में तेज बारिश हुई, उसके बाद से लगातार रुक रुक कर हल्की बारिश हो रही है। बारिश और शीतलहर के कारण नगर में ठंड का प्रकोप और अधिक बढ़ गया है। फिलहाल अभी मसूरी में बर्फबारी नहीं हुई है। संभावना जताई जा रही है कि जिस तेजी से नगर में पारा लुढ़क रहा है बर्फबारी हो सकती है।बृहस्पतिवार सुबह से दून समेत प्रदेश के ज्यादातर क्षेत्रों में बारिश होती रही। मैदानी और निचले पहाड़ी इलाकों में तेज हवाएं चलने के साथ रिमझिम बारिश होती रही। सुबह करीब दो घंटे तक बारिश होने के बाद स्कूली बच्चों को परेशानी झेलनी पड़ी। उसके कुछ देर बाद मौसम खुला। इस दौरान बादल कुछ कम हुए, लेकिन धूप नहीं निकली।

दोपहर में फिर अधिकतर क्षेत्रों में करीब एक घंटे तक बूंदाबांदी होती रही। इस बीच कुछ इलाकों में तेज बारिश भी हुई। मौसम केंद्र निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि शुक्रवार को प्रदेश के कई क्षेत्रों में ओले गिरने का अनुमान है। हरिद्वार, देहरादून, टिहरी, पौड़ी, नैनीताल और ऊधमसिंह नगर जिलों में ओले गिरने के साथ ही तेज झक्कड़ भी आ सकता है।पिछले कई दिनों से लगातार अलग-अलग मिजाज में नजर आ रहे मौसम ने बृहस्पतिवार को फिर करवट बदली है। जिससे चारधाम समेत प्रदेश में तमाम ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी हुई, जबकि निचले इलाकों में बारिश व ओलावृष्टि देखने को मिली। इससे ठिठुरन बढ़ गई है, जिसका असर जनजीवन पर भी नजर आ रहा है। इस बीच अच्छी बात यह रही कि चमोली के गमसाली में बर्फबारी के चलते हफ्तेभर से फंसे तीन लोगों को गुरुवार को सुरक्षित निकाल लिया गया।

बढ़ी ठंडक को देखते हुए पौड़ी में कक्षा आठ तक के सभी शिक्षण संस्थानों में शुक्रवार का अवकाश घोषित किया गया है। उधर, हिमस्खलन से उत्तरकाशी में गंगोत्री हाईवे झाला और हर्षिल के बीच करीब सात घंटे तक बंद रहा। चांगथांग के पास भी हाईवे हिमस्खलन के कारण बंद हो गया, जिसे गुरुवार देर शाम तक सुचारू नहीं किया जा सका था। इसके अलावा भी गढ़वाल मंडल में करीब आधा दर्जन सड़कें बंद चल रही हैं और दर्जनों गांवों का संपर्क कट गया है।बर्फबारी वाले इलाकों में केदारनाथ, बदरीनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री, हर्षिल, हेमकुंड, मसूरी के पास नागटिब्बा, सुरकंडा, चकराता व कुमाऊं मंडल के ऊंचाई वाले कुछ क्षेत्र शामिल रहे। जबकि देहरादून समेत अन्य मैदानी क्षेत्र व कम ऊंचाई वाले पर्वतीय क्षेत्रों में बारिश रिकॉर्ड की गई। वहीं, नैनीताल में ओलावृष्टि भी देखने को मिली। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार शुक्रवार को भी मौसम ऐसा ही बने रहने के आसार हैं। 2500 मीटर व इससे अधिक ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी की संभावना है, जबकि निचले इलाकों में हल्की से मध्यम स्तर तक की बारिश हो सकती है।

Related Articles