घास काटते-काटते रैजा के सिर पर सजा 16 तोले चांदी का मुकुट

घनसाली (टिहरी)। अपने किस्‍म की अनूठी घसियारी प्रतियोगिता में ग्राम अमरसर बासर की रैजा देवी को प्रथम स्‍थान हासिल हुआ है। उन्हें प्रथम पुरस्‍कार के रूप में 16 तोले के चांदी का मुकुट और एक लाख रुपये प्रदान किए गए हैं। इस प्रतियोगिता में यशोदा देवी दूसरे और अबली देवी तीसरे स्‍थान पर रहीं। यशोदा देवी को 51 हजार व 13 तोले का चांदी का मुकुट औरअबली देवी को 21 हजार व 10 तोला चांदी के मुकुट से पुरस्कृत किया गया।

यह भी पढ़ें – घसियारी के बिना कैसा उत्तराखण्ड

raija devi
रैजा देवी घास काटने की प्रतियोगिता में बनीं विजेता

यह भी पढ़ें – जब घास काटने पर मिलेंगे एक लाख रुपए और चांदी का मुकुट

चेतना आंदोलन की ओर से टिहरी के भिलंगना ब्लॉक में हुई इस प्रतियोगिता में ग्यारह न्याय पंचायतों की 637 महिलाओं ने भाग लिया।ब्लॉक के 112 ग्राम पंचायतों में एक माह तक अलग-अलग चरणों में घसियारी प्रतियोगिता आयोजित की गई। अपने-अपने क्षेत्रों से चुनकर आई 26 महिलाओं के बीच ग्राम पंचायत कोठियाड़ा गांव के जंगल में दो मिनट घास काटने और साक्षात्कार के साथ फाइनल प्रतियोगिता हुई।

प्रतियोगिता में शामिल हुई टॉप टेन घसियारियों में कुशला देवी ग्राम अखोड़ी, रेशमा देवी जखन्याली, सुनिता देवी हडियाड़ा, कमला देवी अणवां, मीना देवी बेलेश्वर, सैता देवी और उर्मिला देवी चौंरा को दस-दस ग्राम चांदी के सिक्के दिए गए, जबकि अन्य 16 घसियारियों को सांत्वना पुरस्कार दिया गया। निर्णायक मंडल में लोक गायक नरेंद्र सिंह नेगी, दीपा गैरोला, कमला पंत, रमा ममगाईं, शामिल थे।

Related Articles

Leave a Reply

Back to top button