राजस्थान के डीजीपी का बड़ा बयान, रेप के लिए आबादी, इंटरनेट, युवा और जिज्ञासा को ठहराया जिम्मेदार

राजस्थान : पिछले एक हफ्ते से हाथरस समेत देश के अन्य हिस्सों से लगातार दुष्कर्म के मामले सामने आ रहे हैं। इस मामले में अब राजस्थान के डीजीपी भूपेंद्र सिंह यादव ने बड़ा बयान दिया है। राजस्थान के डीजीपी ने कहा कि अब संपत्ति विवाद या आपसी विवाद मिटाने के लिए भी दुष्कर्म के मामले सामने आ रहे हैं। जोकि अब नया ट्रेंड बन रहा है। पीड़ित को भी न्याय मिलने में देरी हो रही है। हमे इसपर ध्यान देने की खासा ज़रूरत है क्योंकि यह एक गंभीर मसला है।

राजस्थान के डीजीपी भूपेंद्र सिंह यादव
राजस्थान के डीजीपी भूपेंद्र सिंह यादव

डीजीपी भूपेंद्र सिंह ने कहा कि राजस्थान में आपराधिक मामले तेज़ गति पकड़ रहे हैं। इसके कई कारण हो सकते हैं जैसे इंटरनेट पर काफी भारी मात्रा में आपराधिक सामग्री प्रसारित की जा रही है, जो पूरी तरह से वर्जित हैं। पुलिस हर मुमकिन कोशिश कर रही है कि इंटरनेट पर इस तरह का मटीरियल पूरी तरह से बाधित किया जाए। पुलिस द्वारा कई वेबसाइट पर उपलब्ध घातक सामग्रियों को हटाया जा चुका है। लेकिन फिर भी नई नई साइट बन जाती हैं जिससे कई बार साइबर क्राइम को भी अंजाम दिया जाता है।

यह भी पढ़ें :

उन्होंने आगे कहा कि बढ़ती जनसँख्या और घटता रोज़गार भी इसका बहुत बड़ा कारण हैं। इंटरनेट से आपराधिक गतिविधयों की प्रेरणा लेना भी इसका एक एहम कारण है। पुलिस इस बात पर खासा ध्यान दे रही है कि बच्चों को ज़्यादा से ज़्यादा शिक्षित किया जाए और उनके परिजनों को भी इसकी जानकारी दी जाए। उन्हें यह समझाया जाए कि इंटरनेट का उपयोग सकारात्मक कार्यों के लिए ही किया जाए.

डीजीपी भूपेंद्र सिंह यादव ने कहा कि साइबर क्राइम उनका फोकस सेण्टर है और इसे लेकर कई तरह की तैयारियां भी हो रही हैं। इसे रोकने के लिए नई सेल का गठन किया गया है जिसमें बाहर के एक्सपर्ट्स भी शामिल किए गए हैं। इस सेल द्रारा सोशल मीडिया के माध्यम से होने वाले अपराधों की मॉनिटरिंग की जाएगी। ताकि इन अपराधों पर लगाम लगाई जा सके और ऐसा करना अब बेहद ज़रूरी भी है।

पुलिस कर्मियों की लगातार मिल रही शिकायतों के किए गए सवालों पर डीजीपी भूपेंद्र सिंह यादव ने कहा कि शिकायत आने का मुख्य कारण है कि हर आदमी पुलिसकर्मी से अपेक्षा रखता है। यह जरूरी नहीं कि हर आदमी शालीन हो आपकी सभी अपेक्षाओं पर खरा उतर सके। शालीन होने के लिए किसी भी रैंक का कोई ताल्लुक नहीं है। जो गलती करता है और गलती करते पाया जाता है तो उसके खिलाफ एक्शन होता है।

Related Articles