राजस्‍थान सरकार ने किसानों को दी बड़ी राहत, कर्ज चुकाने के लिए दिया इतना और समय

राजस्थान जयपुर। राजस्थान के सहकारिता मंत्री अजय सिंह किलक ने कहा है कि अल्पकालीन फसली ऋण से जुड़े जिन किसानों ने 30 जून तक बकाया नहीं चुकाया है, वे अब 15 अगस्त तक अपने ऋण चुका सकते हैं। किलक यहां रविवार को अपेक्स बैंक के सभागार में राजस्थान फसली ऋण माफी योजना, 2018 की क्रियान्विति, प्रगति एवं ऋण वितरण की समीक्षा बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि यदि किसी भी किसान से तय समय पर ऋण नहीं चुकाने पर ब्याज वसूला गया था तो वह किसान को वापस किया जाएगा।

सहकारिता मंत्री ने कहा कि ऋण माफी में जो किसान अपात्र हैं और 15 अगस्त तक अपना बकाया ऋण जमा कराते हैं तो उनसे भी शास्ति एवं ब्याज नहीं लिया जाएगा। किसानों से बकाया अल्पकालीन फसली ऋण 15 अगस्त तक जमा कराने पर किसी भी प्रकार का ब्याज नहीं लिया जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि 15 अगस्त तक ऋण माफी शिविरों का आयोजन हो एवं किसानों को ऋण माफी प्रमाण-पत्र का वितरण भी हो।

उन्होंने कहा कि अब तक 18.66 लाख किसानों को ऋण माफी प्रमाण-पत्र जारी किए गए हैं, जिसकी राशि पांच हजार 687 करोड़ रुपये से अधिक है तथा शिविरों के दौरान 10.52 लाख से अधिक किसानों को तीन हजार 59 करोड़ रुपये से अधिक राशि के ऋण माफी प्रमाण-पत्र वितरित किए जा चुके हैं।

प्रमुख शासन सचिव (सहकारिता) अभय कुमार ने कहा कि राज्य में अब तक चार हजार 908 ग्राम सेवा सहकारी समितियों के ऋ़ण माफी शिविर आयोजित हो चुके हैं तथा चित्तौड़गढ़ एवं झुंझुनूं जिलों में सभी शिविरों का आयोजन हो चुका है। उन्होंने जालौर, पाली एवं जोधपुर जिलों में शिविर आयोजन की प्रक्रिया को तीव्र करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए।

कुमार ने कहा कि 21 जुलाई तक 22.67 लाख से अधिक पात्र किसानों के डेटा सत्यापित हो चुके हैं। उन्होंने पाली, उदयपुर, जालौर, दौसा एवं बांसवाड़ा केन्द्रीय सहकारी बैंकों के प्रबन्ध निदेशकों को निर्देश दिए कि शेष रहे डेटा को शीघ्र सत्यापित किया जाए, ताकि शिविरों में किसानों को ऋण माफी प्रमाण-पत्र का लाभ दिया जा सके।

Related Articles