राजस्थान : दूसरे दिन भी जारी रोडवेज कर्मियों की हड़ताल

0

जयपुर: राजस्थान राज्य परिवहन कर्मियों की गुरुवार को दूसरे दिन भी जारी हड़ताल से राज्य के विभिन्न स्थानों पर बड़ी संख्या में यात्री फंसे रहे। राज्य भर में तथा अंतर्राज्यीय मार्गो पर लगभग 4700 बसों की हड़ताल से लगभग 10 लाख यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ रही है।

रोडवेज परिवहन कर्मी संघ के नेता एम.एल. यादव ने बताया, “सरकार कई दिनों से लंबित हमारी मांगों को पूरा करने में नाकाम रही है। बोनस अधिनियम पिछले दो सालों से लंबित है। लगभग 4,000 से ज्यादा सेवानिवृत्त कर्मियों को उनका लगभग 600 करोड़ रुपया नहीं मिला है।”

कर्मचारियों की प्रमुख मांगों में सातवें वेतन आयोग को जनवरी 2016 से मान्य करना, रिक्तियां भरना, निजी बसों के परिचालन को बंद करना, कम से कम 1,000 नई बसें खरीदना और किसी भी एजेंसी से नियुक्त किए गए चालक का न्यूनतम वेतनमान 18,000 रुपये मासिक करना शामिल है।

उन्होंने कहा कि राज्य परिवहन निगम 17,000 कर्मियों के साथ प्रतिदिन 5.32 करोड़ रुपये की आय करता है।

बुधवार को राजस्थान परिवहन निगम के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक राजहंस उपाध्याय ने मंहगाई भत्ता में संशोधन करने का आदेश जारी कर दिए। लेकिन, यूनियन इससे राजी नहीं है।

यादव ने कहा, “हम सरकार को अपनी परेशानी समझाना चाहते हैं। हम अपने मुद्दों का निवारण चाहते हैं नहीं तो यह हड़ताल जारी रहेगी।”

राजस्थान राज्य परिवहन निगम के जनसंपर्क अधिकारी सुधीर भारती ने कहा, “सरकार ने उनकी समस्याओं के निवारण की कोशिश की है। हमने मंहगाई भत्ते की दोबारा समीक्षा की है और गुरुवार को तीन बजे एक बैठक बुलाई।”

हालांकि इसी मुद्दे पर यादव ने कहा कि सरकार इससे पहले भी तीन असफल बैठकें कर चुकी है।

loading...
शेयर करें