राजीव गांधी के हत्यारे ने ली राहत की सांस, पेरारिवलन की पैरोल अवधि एक सप्ताह और बढ़ी

राजीव गांधी के हत्यारे पेरारिवलन की पैरोल अवधि एक सप्ताह और बढ़ी

नई दिल्ली: उच्चतम न्यायालय ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के दोषी एजी पेरारिवलन की पैरोल अवधि एक सप्ताह और बढ़ाने का निर्देश दिया। मामले की जांच कर रही एजेंसी केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने सुप्रीम कोर्ट को दी जानकारी।

तमिलनाडु सरकार को पैरोल अवधि

न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव, न्यायमूर्ति हेमंत गुप्ता और न्यायमूर्ति अजय रस्तोगी की खंडपीठ ने एजी पेरारिवलन की याचिका की सुनवाई करते हुए तमिलनाडु सरकार को पैरोल अवधि एक सप्ताह और बढ़ाने का आदेश दिया। इतना ही नहीं शीर्ष अदालत ने राज्य सरकार को यह भी आदेश दिया कि याचिकाकर्ता की चिकित्सा जांच के दौरान पर्याप्त पुलिस सुरक्षा मुहैया कराई जाए। पेरारिवलन 30 अक्टूबर को पैरोल पर बाहर आया था और उसकी पैरोल अवधि आज खत्म हो रही थी।

(सीबीआई) का बयान

इस बीच, सुनवाई के दौरान मामले की जांच कर रही एजेंसी केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि पेरारिवलन को रिहा करने में उसकी कोई भूमिका नहीं है।

तमिलनाडु सरकार ‘हत्या के पीछे बड़ी साजिश’

तमिलनाडु सरकार ने इसी साल सितंबर में मद्रास उच्च न्यायालय को बताया था कि राज्यपाल के सचिव ने सरकार को सूचित किया है कि “राज्यपाल एमडीएमए की अंतिम रिपोर्ट (बहु-अनुशासनात्मक निगरानी एजेंसी जिसका सीबीआई का हिस्सा है) उसकी प्रतीक्षा कर रही है,  इसी तरह की याचिका में जो कि सर्वोच्च न्यायालय के समक्ष लंबित है इसमें सीबीआई ने शीर्ष अदालत से कहा है कि यह राज्यपाल को तय करना है कि दोषियों की सजा की छूट दी जाए या नहीं। केंद्रीय एजेंसी ने अदालत को यह भी बताया है कि पूर्व प्रधानमंत्री की हत्या के पीछे बड़ी साजिश की जांच जारी है।

यह भी पढ़े:यूपी उपचुनाव में करारी हार पर कांग्रेस सीख रही सबक, नहीं करेगी धरना-प्रदर्शन

यह भी पढ़े:‘डैडमैन’ द अंडर टेकर ने WWE से लिया रिटायरमेंट, सर्वाइवर सीरीज़ में अंडरटेकर का फेयरवेल

Related Articles