चीन को राजनाथ सिंह का सख्त संदेश, ‘एक इंच भी जमीन दूसरों के हाथों में नहीं जाने देंगे’

सिक्किम: तानाशाही चीन से अनबन होने के बाद जवानों का उत्साह बढ़ाने के लिए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सिक्किम में दार्जिलिंग नाथुला के पास कड़ाके की ठंड में जवानों के साथ ‘विजयीदशमी’ का पर्व बड़े ही हर्षो-उल्लास के साथ मनाने का फैसला किया है।

राजनाथ सिंह ने की शस्त्र पूजा

राजनाथ सिंह ने दार्जिलिंग के सुकना युद्ध स्मारक पर शस्त्र पूजा की। साथ ही यह भी कहा कि ‘भारत-चीन’ के बीच जो तनाव चल रहा है। उस पर भारत ये चाहता है कि तनाव खत्म हो और शांति स्थापित हो लेकिन कभी-कभी नापाक हरकत होती-रहती है। मैं पूरी तरह आश्वत हूं कि हमारे सेना के जवान किसी भी सूरत में अपने “भारत की एक इंच भी जमीन किसी दूसरे के हाथों में जाने नहीं देंगे”।

श्रद्धांजली देकर जवानों को नमन

सबसे पहले सुकना युद्ध स्मारक पर राजनाथ सिंह ने पुष्प अर्पित कर वीर सपूतों को याद किया। रक्षामंत्री ने ट्वीट कर देशवासियों को दशहरा की बधाई दी। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर कहा कि सभी ‘देशवासियों को विजयीदशमी पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं’। आज के इस पावन पर्व पर मैं सिक्किम के नाथूला क्षेत्र में जाकर भारतीय सेना के जवानों से भेंट करूंगा एंव शस्त्र पूजन समारोह में भी शामिल रहूंगा।

दो दिन के दौरे पर पहुंचे राजनाथ सिंह

दो दिन के दौरे पर पश्चिम बंगाल और सिक्किम पहुंचे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सबसे पहले दार्जिलिंग के सुकमा स्थित 33 वीं कॉप्स मुख्यालय पर भारतीय सेना के जवानों से मुलाकात की। उन्होंने जवानों को संबोधित करते हुए कहा की भारत ने अपने सभी पड़ोसियों के साथ हमेशा अच्छा संबंध चाहा है। रक्षामंत्री ने यह भी कहा भारत की तरफ से इसको लेकर प्रयास किए गए , लेकिन भारतीय जवानों ने सीमाओं, अखंडता और सार्वभौमिकता के रक्षा के खातिर समय-समय पर कुर्बानी दी।

ये भी पढ़ें: पिछले 24 घंटों में चीन में कोरोना संक्रमण के 15 नये मामले आए सामने

Related Articles