राम नगरी अयोध्या में दीपोत्सव के दिन होगा भव्य और दिव्य नजारा

उत्तर प्रदेश: राम नगरी अयोध्या में इस बार होगा अलौकिक दीपोत्सव। राम दरबार का भव्य और दिव्य नजारा देखने को मिलेगा। छोटी दीपावली के कार्यक्रम की पूरी तैयारियां कर ली गयी है। इस बार अयोध्या में तीन दिवसीय दीपोत्सव होगा और 5.50 लाख दीयों को जलाकर नया रिकार्ड बनाने की तैयारी है। कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए सोशल डिस्टेंसिंग के साथ सुरक्षा का ख़ास इंतजाम किया गया है। सभी कार्यक्रमों का लाइव प्रसारण किया जाएगा।

PM के निर्देश का होगा पालन

आम जनमानस को कोरोना महामारी से बचाने के लिए बहुत ही “सीमित संख्या” में अयोध्या आने की अनुमति प्रदान की जाएगी। प्रधानमंत्री मोदी ने देश के नाम संदेश में कोरोना से बचाव को लेकर जो भी निर्देश दिए थे उन सबका पूरी तरह से पालन कराया जाएगा।

मंडलायुक्त ने बैठक में कहा

कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में बैठक की अध्यक्षता करते हुए मंडलायुक्त एमपी अग्रवाल ने बताया कि इस बार भव्य दीपोत्सव कार्यक्रम 11 नवंबर से 13 नवंबर तक सिर्फ तीन दिवसीय होगा। इस बार मुख्य कार्यक्रम के एक दिन पूर्व 12 नवंबर को साकेत डिग्री कॉलेज से रामायण काल पर आधारित 11 झांकियां निकाली जाएंगी जो रामकथा पार्क तक जाएंगी। शोभायात्रा में निकाली जा रहीं झांकियों में सचित्र पात्र होंगे जो रामायण काल में घटित घटनाओं का दृश्य प्रस्तुत करेंगे। दीप प्रज्जवलित के दौरान राम की पैड़ी पर राम दरबार का अनोखा और मन को भा लेने वाला दिव्य नज़ारा होगा।

5.50 लाख जलाए जाएंगे दिये

नगर आयुक्त विशाल सिंह ने बैठक में बताया कि पिछली बार दीपोत्सव में 3.50 लाख दीप जलाने का संकल्प लिया था। लेकिन संस्थाओं के शामिल होने से दीपों की संख्या 5.50 लाख पहुंच गई थी। इस बार दीपोत्सव पर प्रशासन ने 5.50 लाख दीप जलाने का संकल्प लिया है। जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने जिला पंचायत राज अधिकारी को अयोध्या से सटे ग्रामीण क्षेत्रों जहां नगर निगम नहीं है वहां पर सफाई के लिए टीमें लगाने के निर्देश दिए हैं। अपर जिलाधिकारी नगर वैभव शर्मा , सहायक पुलिस अधीक्षक निपुण अग्रवाल , पुलिस अधीक्षक नगर विजय पाल सिंह , संस्कृति विभाग से वाईपी सिंह , उप निदेशक , सूचना डॉ. मुरलीधर सिंह सहित कई अधिकारी मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें: जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की अंतिम तिथि दो महीने बढ़ाकर 31 दिसंबर 2020 की गई

Related Articles

Back to top button