राम मंदिर : भागवत के बयान पर भड़का मुस्लिम बोर्ड, कहा- इसने किया है सुप्रीम कोर्ट का अपमान

0

नई दिल्ली। अपने विवादित बयानों के लिए हमेशा सुर्खियों में रहते आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने एक बार फिर आग में घी डालने वाला बयान दिया है। भागवत ने अयोध्या में राम मंदिर पर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि राम जन्मभूमि पर ही मंदिर बनेगा, मंदिर के अलावा वहां कुछ नहीं बनेगा।उनके इस बयान के बाद मुस्लिम संगठनों ने कड़ा विरोध दर्ज कराया है।

विहिप नेताओं के महासमागम ‘धर्मसंसद’ को संबोधित करते हुए मोहन भागवत ने कहा था कि इस बात में कोई संदेह नहीं होना चाहिए कि अयोध्या में राममंदिर ही बनेगा। हम उसका निर्माण करेंगे। यह कोई लोकप्रिय घोषणा नहीं बल्कि हमारी आस्था का मामला है, यह नहीं बदलेगा।

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के इस बयान पर मुस्लिम संगठनों ने कड़ा ऐतराज जाहिर किया है। साथ ही उनके इस बयान को सुप्रीम कोर्ट को चुनौती करार दिया है। ऑल इंडिया मुस्लिम लॉ बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना खालिद सैफुल्ला रहमानी ने कहा कि भागवत ने ये बयान देकर कानून अपने हाथ में लिया है।

उन्होंने कहा कि बोर्ड अदालत के फैसले पर यकीन रखता है लेकिन भागवत का ये कहना कि उस जगह पर मंदिर ही बनेगा यह हमें कबूल नहीं होगा। सरकार को इस बात पर एक्शन लेना चाहिए। ये कानून को अपने हाथ में लेने वाली बात है।

ऑल इण्डिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना यासूब अब्बास ने कहा कि संघ प्रमुख सुप्रीम कोर्ट से बढ़कर नहीं हैं। अयोध्या मामले में कोर्ट जो फैसला सुनाएगा, उसे भागवत को भी मानना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि यह गुजरात विधानसभा चुनाव में मतदाताओं का ध्यान असल मुद्दों से भटकाने के लिए अपनाया गया हथकंडा मात्र है।

loading...
शेयर करें