रेप केस: पुलिस ने भेजा गिरफ़्तारी का समन अनुराग कश्यप को,पायल घोष ने की थी FIR

मुंबई: अभिनेत्री पायल घोष ने कुछ दिन पहले ही फिल्मकार अनुराग कश्यप के खिलाफ यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था और FIR भी दर्ज कराई थी जिसके बाद बुधवार को मुंबई पुलिस ने निर्माता अनुराग कश्यप को गिरफ़्तारी का समन भेजा दिया है। पायल की शिकायत पर वर्सोवा पुलिस ने एक्शन लेते हुए अनुराग को रेप के मामले में पूछताछ करने के लिए कल गुरुवार को सुबह 11 बजे बुलाया है।

रेप केस
रेप केस

बता दे कि पायल ने अपने वकील नितिन सतपुते के साथ मुंबई पुलिस से शिकायत की थी जिसके आधार पर वर्सोवा पुलिस थाने में 22 सितंबर को देर रात FIR भी दर्ज कर ली थी. एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि धारा 376 (I), 354, 341 और 342 के तहत FIR दर्ज की गई है। मामले की जांच जारी है।

अभिनेत्री ने शिकायत करते हुए बताया कि कश्यप ने वर्ष 2013 में वर्सोवा में यारी रोड पर स्थित एक स्थान पर उनके साथ बलात्कार करने का आरोप लगाया है। अधिकारी ने जानकारी देते हुए बताया कि अभिनेत्री व उनके वकील 21 सितंबर को ओशिवारा पुलिस थाने गए थे। वहां से उन्हें वर्सोवा पुलिस थाना जाने को कहा गया क्योंकि वह घटना उसी न्यायिक क्षेत्र में हुई थी। वे ओशिवारा पुलिस थाने इसलिए गए थे क्योंकि कश्यप का ऑफिस उसी इलाके के थाने में लगता है।

सतपुते ने FIR दर्ज होने के बाद ट्वीट किया था- ‘‘आखिरकार आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म, गलत तरीके से रोकने…. और महिला का शील भंग करने के मामले में FIR दर्ज हो गई है।’’

अभिनेत्री ने ट्वीट कर कश्यप के खिलाफ उनके साथ यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया था। वहीं, कश्यप ने इन आरोपों को खारिज करते हुए उन्हें ‘‘खामोश’’ करने का प्रयास किया।

वही निर्माता कश्यप के वकील ने उनकी तरफ से एक बयान जारी किया था जिसमें यह लिखा था- कि ‘मेरे क्लाइंट, अनुराग कश्यप को यौन अपराध के झूठे आरोपों से गहरा दुख पंहुचा है। उन्होंने कहा कि जो यौन दुर्व्यवहार के आरोप उनके खिलाफ सामने आए हैं, ये आरोप पूरी तरह से झूठे हैं, दुर्भावनापूर्ण और बेईमानी की भावना से परिपूर्ण है। यह दुखद है कि एक सामाजिक आंदोलन जो काफी महत्वपूर्ण है उसे निहित स्वार्थों के लिए चुना गया है और चरित्र हत्या का एक मात्र उपकरण बन गया है।’

यह भी पढ़े:बाबरी विध्वंस मामले में CBI कोर्ट ने सुनाया बड़ा फैसला, आडवाणी-कल्याण सहित 32 बरी

Related Articles

Back to top button