एक और निर्भयाकांड: आरोपियों ने 62 साल की वृद्ध महिला के साथ किया बेहद घिनौना काम

0

कोलकाता: दिसंबर 2012 को दिल्ली में हुआ निर्भया कांड तो आपको याद ही होगा जिसमें पांच दोषियों ने एक युवती के साथ हैवानियत की सारी हदें पार कर दी थीं। एक बार फिर कुछ आरोपियों ने एक महिला के साथ निर्भया कांड जैसा ही अमानवीय कृत्य किया है। इस घटना में आरोपियों ने पहले एक 62 वर्षीय महिला को अपनी हवस का शिकार बनाया फिर महिला के प्राइवेट पार्ट्स में लोहे की राड डाल दी थी। बीते सोमवार को पीड़ित महिला ने दम तोड़ दिया।

मिली जानकारी के अनुसार, यह महिला 24 परगना जिले के संदेशखली क्षेत्र में रहती थी। बीते 4 जुलाई को आरोपियों ने महिला से घर में घुसकर इस घिनौने कृत्य को अंजाम दिया था। महिला बीते 27 दिनों से अस्पताल में मौत से जंग लड़ रही थी लेकिन सोमवार को वह यह जंग हार गई। बताया जा रहा है कि इस मामले में एक आरोपी पुलिस की गिरफ्त में है जिससे पुलिस पूछताछ करने में जुटी है।

यह भी पढ़ें: अब पाकिस्तानी कश्मीर की आजादी दूर नहीं, पीएम ने रख दी है बगावत की नींव

पीड़ित महिला के बेटे बृज दुलाल ने बताया कि संदेशखली पुलिस स्टेशन के पास हमारा एक छोटा सा होटल है। मेरी मां वहां रोज जाती थी और होटल की देखभाल करती थी। 4 जुलाई को भी वह रोज की तरह रात 9 बजे घर लौटीं। लेकिन मैं वहां नहीं था क्योंकि मैं अपने ससुरवालों के किसी फंक्शन में शामिल होने के लिए कोलकाता आया था। मेरी मां वहां अकेली थीं। वह रात में ब्रश कर रहीं थीं तभी मुख्य आरोप राज्येश्वर मैती और उसके साथियों ने हमला किया।

यह भी पढ़ें: लालू ने नीतीश को बताया राजनीति का पलटूराम, कहा- उन्हें आगे मैंने बढ़ाया और जयकारा मोदी का लगा रहे

राज्येश्वर पर शराब पीकर महिलाओं से छेड़छाड़ करने के आरोप लगते रहे हैं। कई बार पीड़ित महिला ने इसका विरोध भी किया लेकिन पुलिस ने कुछ नहीं किया। इससे गुस्साए राज्येश्वर ने उस दिन महिला के अकेले होने का फायदा उठाकर महिला को सबक सिखाने की ठान ली।

अस्पताल में दिए महिला के बयान के मुताबिक, ‘राज्येश्वर ने मेरे गले में बेल्ट बांधी। उसने मेरी आंखों पर पट्टी बांधकर मेरे साथ बलात्कार किया। उसके बाद मेरे प्राइवेट पार्ट्स में लोहे की रॉड डाली।’

सेक्रटरी ऑफ सेफ डिमॉक्रेसी चंचल चक्रवर्ती ने महिला से अस्पताल में मुलाकात की और कहा, ‘मैं हैरान हूं। यह क्या हो रहा है? अब एक 62 साल की महिला भी रेप का शिकार हो रही है! हम यह कैसे मान लें कि पश्चिम बंगाल में महिलाएं सुरक्षित हैं? पुलिस ने अभी तक इस मामले में सिर्फ 1 आरोपी को पकड़ा है।’

आपको बता दें कि महिला का इलाज कोलकाता के नेशनल मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में चल रहा था.

loading...
शेयर करें