104 साल बाद बना 21वीं सदी का सबसे दुर्लभ संयोग, ये राशियां होंगी प्रभावित

नई दिल्ली। 27 जुलाई को लग रहा 21वी सदी का सबसे लंबा खग्रास चंद्रग्रहण। यह ग्रहण पुरे 104 साल बाद लग रहा है। इतना ही नहीें 11 अगस्त 2018 को खंडग्रास सूर्यग्रहण भी पड़ेंगा जो पुरे 3 घंटे 55 मिनट का होगा।

27 जुलाई को रात्रि 11 बजकर 55 मिनट से शुरू होगा और 28 जुलाई कि सुबह 3 बज कर 39 मिनट को ख़तम होगा इस चन्द्र ग्रहण में सुपर ब्लड ब्लू मून का नजारा भी दिखेगा। चंद्र ग्रहण के समय चांद ज्यादा चमकीला और बड़ा नजर आएगा। यह ग्रहण सदी का सबसे लम्बा ग्रहण है।

ज्योतिषियों की मानें तो ग्रहण काल के समय कुछ भी न खाएं पिए और इसी दौरान महिलाओं को चाकू, कैंची, सूई-धागे का प्रयोग नहीं करना चाहिए। आपको बता दें कि चंद्रग्रहण के कारण कुछ राशियों पर विशेष प्रभाव पड़ेगा जिसमें मेष, सिंह, वृश्चिक और मीन राशि के जातकों के लिए चंद्रग्रहण दर्शन लाभ, शुभ और सुखद फलदायक रहेगा। वहीं मिथुन, तुला, मकर, कुंभ राशि के जातकों के लिए चंद्रग्रहण का दर्शन अशुभ होगा। वृषभ, कर्क, कन्या व धनु राशि के जातकों के लिए मिला-जुला फलदायक रहेगा।

चंद्र ग्रहण के दौरान गायत्री मंत्र का जाप करने से सभी राशियों पर पड़ा दोष मिट जाता है। ग्रहण का प्रभाव सिर्फ ग्रहण तक ही नही रहेगा ज्योतिष शास्त्रियों की मानें तो चंद्र ग्रहण क प्रभाव 108 दिनों तक बना रहता है।

Related Articles