Social Media की नई गाइडलाइन पर Ravi Shankar Prasad ने कहीं ये बात

सोशल मीडिया की नई गाइडलाइन पर केंद्रीय सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बोला कि ये गाइडलाइन अचानक नहीं आई हैं, इन गाइडलाइन का संबंध सोशल मीडिया के दुरुपयोग से है

नई दिल्ली: सोशल मीडिया (Social media) की नई गाइडलाइन पर केंद्रीय सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने बोला कि ये गाइडलाइन अचानक नहीं आई हैं, ये काम पिछले 3-4 साल से चल रहा था। इन गाइडलाइन का संबंध सोशल मीडिया के उपयोग से नहीं, सोशल मीडिया के दुरुपयोग से है। ताकि जब इनका दुरुपयोग किया जाए तो लोग शिकायत कर सकें।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि 25 मई को 3 महीने की अवधि पूरी हो गई मैंने फिर भी कहा कि ट्विटर (Twitter) को एक अंतिम नोटिस और दो। 3 पदाधिकारियों की नियुक्ति के लिए आपको बहुत बड़ी परीक्षा आयोजित करनी है? व्यापार करो, आपके यूजर्स सवाल पूछे उसका स्वागत है लेकिन भारत के संविधान और कानून का पालन करना पड़ेगा।

उन्होंने कहा जब भारतीय कंपनियां अमेरिका या दूसरे देशों में IT बिजनेस करने जाती हैं क्या वो अमेरिका या दूसरे देशों के कानूनों का पालन करती हैं या नहीं? आपको भारत में व्यापार करना है, PM और हम सबकी आलोचना करने के लिए आपका स्वागत है। लेकिन भारत के संविधान, नियमों का पालन करना होगा। रविशंकर प्रसाद  ने बयान में कहा कि अगर ट्विटर का एक ट्वीट को मैनिपुलेटेड या अनमैनिपुलेटेड ट्वीट घोषित करने के लिए नियम है तो ये गाजियाबाद मामले में लागू क्यों नहीं हुआ।

जानें पूरा मामला

दरअसल केंद्रीय सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने 17 जून को कहा था कि नेताओं को छोड़ दीजिए, पत्रकार यहां तक कि जजों को भी बदनाम किया जा रहा है। सोशल मीडिया पर Nudity, फेक न्यूज फैलाई जा रही है।  इसके खिलाफ आवाज उठानी जरूरी है। सोशल मीडिया की नई गाइडलाइन के नियम 7 के तहत यह कहा गया है कि अगर आप नियमों का उल्लंघन करते हुए पाए जाते हैं तो Section 79 का स्टेटस आपसे वापस ले लिया जाएगा।

यह भी पढ़ेIND vs NZ, WTC 2021 Final: जानिए किस चैनल पर किया जाएगा प्रसारण, कब होगा मैच शुरु?

Related Articles