Corona की दूसरी लहर से निपटने के लिए RBI ने इतने हजार करोड़ की मदद का किया ऐलान

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर अपना तेजी से पैर पसार रही है। इसी को देखते हुए इस जंग से लड़ने के लिए भारत के साथ देश और संगठन सामने आ रहे हैं। इसी बीच रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने एक बड़ा ऐलान किया है। RBI ने दूसरे लहर से जंग लड़ने के लिए बैंकों द्वारा 31 मार्च 2022 तक अस्पतालों, ऑक्सीजन आपूर्तिकर्ताओं, वैक्सीन आयातकों, कोविड दवाओं के लिए 50,000 करोड़ रुपये के प्राथमिकता पर आधारित कर्ज की घोषणा की है।

RBI के गवर्नर शशिकान्त दास ने देश में बढ़ रही कोरोना महामारी को देखते हुए प्रेस कांफ्रेंस किया। प्रेस में शशिकांत दास ने बताया कि सेन्ट्रल बैंक कोविड की परिस्थितियों पर नजर बनाए हुए है। उन्होंने कहा दुनिया के मुकाबले भारत में रिकवरी तेज हो रही है, लेकिन पहली लहर के मुकाबले दूसरी लहर ज्यादा खतरनाक है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में RBI गर्वनर शशिकान्त दास ने कहा कि पहली लहर के बाद इकोनाॅमि में बेहतर रिकवरी देखी गई थी। प्रेस कॉन्फ्रेंस में ही गवर्नर ने कोरोना की दूसरी लहर से लड़ने के लिए बैंकों द्वारा 31 मार्च 2022 तक अस्पतालों, ऑक्सीजन आपूर्तिकर्ताओं, वैक्सीन आयातकों, कोविड दवाओं के लिए 50,000 करोड़ रुपये के प्राथमिकता पर आधारित कर्ज का ऐलान किया है।

KYC को लेकर भी रिजर्व बैंक ने बड़ी छूट देते हुए वीडियो KYC और नाॅन फेस टू फेस डाॅक्यूमेंट वेरिफिकेशन को बढ़ावा देने को कहा है, इसके अलावा बैंकों को कोविड लोन बुक बनाने का निर्देश, साथ ही प्रायोरियटी सेक्टर लिए इंसेंटिव का ऐलान भी किया है। RBI ने 25 करोड़ रुपये तक कर्ज लेने वाले व्यक्तिगत, छोटे उधारकर्ताओं को कर्ज के पुनर्गठन का दूसरा मौका दिया है, अगर उन्हें पहली बार में इस सुविधा का लाभ न लिया हो तो।

पिछले 24 घंटे में रिकार्ड केस

मंगलवार को महज एक दिन में 3 लाख 82 हजार से अधिक केस सामने आए, जो सोमवार की तुलना में करीब 28 हजार केस अधिक हैं। बता दें कि भारत में कोरोना वायरस के मामले दो करोड़ के पार पहुंच गए हैं। पिछले 15 दिनों में संक्रमण के 50 लाख से अधिक मामले सामने आए हैं। ऐसे में भारत की स्थिति लगातार भयावाह होती जा रही है।

ये भी पढ़ें: Lockdown व कोरोना से बंद हैं स्कूल, Supreme Court के आदेश के बाद School वसूलेंगे सिर्फ इतनी फीस

Related Articles