नोटबंदी के वक्त जमा हुए जाली नोट का हुआ खुलासा, अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज

0

देहरादून। पिछले साल हुई नोटबंदी का हिसाब किताब अभी भी जारी है। इस बात का खुलासा तब हुआ जब हाल ही में रिजर्व बैंक ने नोटों की छंटनी के दौरान जाली करेंसी पकड़ी। पिछले साल इन दिनों चारों तरफ अफरा तफरी का मौहाल था, लोग अपनी जमा पूंजी को बैंक में जमा करके सुरक्षित कर रहे थे, लेकिन उसी बीच में कुछ लोगों ने जाली नोटों को भी जमा कर दिया। जिसकी परख बैंको ने हड़बड़ाबट में उस वक्त नहीं की थी। जिसकी पकड़ रिजर्व बैंक ने अब की है।

कहा जमा हुए थे जाली नोट

रिजर्वबैंक ने छानबीन के दौरान पाया है कि यह नोट इलाहाबाद बैंक की काशीपुर शाखा में जमा कराए गए थे। आरबीआइ अधिकारी ने इस बात की तहरीर पुलिस को दी है, जिसके बाद पुलिस ने यह के केस अज्ञात के खिलाफ दर्ज कर लिया है।  तहरीर पर कोतवाली पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

गौरतलब है कि आठ नवंबर 2016 की रात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांच सौ व एक हजार के नोट बंद कर दिए थे। पुराने नोटों को बैंक में जमा करने के लिए पचास दिन का समय दिया गया। आरबीआइ ने जब नोटों की छंटनी शुरू की तो कुछ पुरानी जाली करेंसी पकड़ी गई।

कितनी थी रकम

जांच पड़ताल में इलाहाबाद बैंक शाखा, काशीपुर से जमा कराई गई पुरानी करेंसी में छह हजार पांच सौ रुपये के पुराने जाली नोट मिले। जिनमें एक नोट पांच सौ व छह नोट एक हजार के हैं। कोतवाल चंचल शर्मा ने बताया कि मामले की जांच की जाएगी।

loading...
शेयर करें