मोदी की नोटबंदी के बाद अब काले धन पर चला आरबीआई का चाबुक, उठाया बड़ा कदम

0

नई दिल्ली: केंद्र की सत्ता पर आसीन होने के बाद से काले धन के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा छेड़ी गई जंग अब भी जारी है। जिस तरह से पीएम मोदी ने दिसंबर 2016 में 500 और 1000 के नोटों के चलन पर रोक लगाकर काला धन रखने वालों को तगड़ा झटका दिया था। वहीं अब भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने एक ऐसा कदम उठाया है जिसे काले धन पर गहरा आघात बताया जा रहा है।

दरअसल, आरबीआई ने डिमांड ड्राफ्ट के नियमों में बदलाव किए हैं. ये बदलाव लोगों के लिए जानना बहुत ही जरुरी है। आरबीआई के इस बदलाव के तहत जब कोई डिमांड ड्राफ्ट बनवाएगा तो उस पर डिमांड ड्राफ्ट बनवाने वाले का नाम भी दर्ज किया जाएगा। अभी तक डिमांड ड्राफ्ट पर सिर्फ उसी व्यक्ति का नाम होता था, जिसके खाते में पैसा जाता था।

इसके अलावा आरबीआई ने पे ऑर्डर और बैंकर्स चेक बनवाने पर भी कई लागू होगी। इन बदलाव के लिए गुरूवार को सभी बैंकों को अधिसूचना जारी कर दी गई है.

इस अधिसूचना में बताया गया है कि 15 सितंबर 2018 से डिमांड ड्राफ्ट, पे ऑर्डर या बैंकर्स चेक बनवाने पर उस पर बनवाने वाले शख्स का नाम लिखा होगा। यह व्यवस्था करीब 60 दिन बाद लागू होगी, ऐसे में बैंकिंग तंत्र में अगर कुछ बदलाव होना है तो यह किया जा सकेगा।

बता दें कि इससे पहले भी केंद्रीय बैंक ने मनी लॉन्ड्रिंग पर लगाम कसने के मकसद से कई फैसले लिए हैं। पहले ही आरबीआई ने 50,000 रुपये से अधिक के डिमांड ड्राफ्ट की राशि को कस्टमर के अकाउंट या फिर चेक के अगेंस्ट ही जारी करने का आदेश दिया था। कैश पेमेंट से डिमांड ड्राफ्ट बनाए जाने पर रोक लग चुकी है। हालांकि फिलहाल डीडी बनवाने वाले के नाम का जिक्र नहीं किया जाता है।

loading...
शेयर करें