RBI ने रेपो रेट 0.25 फीसदी बढ़ाया, मंहगे हो जाएंगे लोन!

मुंबई: रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) ने क्रेडिट पॉलिसी (मौद्रिक नीति) में रेपो रेट 0.25 फीसद वृद्धि की है। अब रेपो रेट 6.25 से बढ़कर 6.50 प्रतिशत हो गया है। रिजर्व बैंक ने लगातार दूसरी बार रेपो रेट में वृद्धि की है। आरबीआई ने यह निर्णय बुधवार को मौद्रिक नीति की समीक्षा करते हुए की। रेपो रेट बढ़ने से होम लोन और ऑटो लोन और पर्सनल लोन की ईएमआई बढ़ सकती है। रेपो रेट वो दर होती है जिस दर पर बैंक रिजर्व बैंक से पैसा लेते हैं।

आरबीआई ने मंहगाई की चिंता के कारण दरों में बढ़ोत्तरी की है। बैठक में रिवर्स रिपो रेट को भी बढ़ाकर 6.25% और मार्जिनल स्टैंडिंग फसिलिटी रेट एवं बैंक रेट को 6.75% करने का फैसला किया है। आपको बता दें कि खुदरा महंगाई दर के मई में चार महीने के ऊपरी स्तर 4.87 फीसदी पर पहुंचने के बाद भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) अगस्त में अपनी मौद्रिक नीति समीक्षा में रेपो रेट बढ़ाया है। वहीं इस ऐलान के बाद शेयर बाजार में गिरावट शुरु हो गई है। सेंसेक्स पचास अंक नीचे गिर गया है।

जीडीपी में लगातार वृद्धि का अनुमान- उर्जित पटेल

RBI गवर्नर उर्जित पटेल ने कहा कि साल 2018-19 में जीडीपी ग्रोथ रेट 7.4% रहने का अनुमान है। इसके अलावा 2019-20 के पहले क्वॉर्टर में जीडीपी ग्रोथ रेट 7.5% हो सकता है। वहीं जुलाई-सितंबर के बीच महंगाई दर 4.2 फीसदी रहने का अनुमान है। मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी की अगली बैठक 3-5 अक्टूबर को होगी।

मंहगें हो जाएंगे कर्ज 

गौरतलब हो कि अक्टूबर 2013 के बाद ऐसा पहली बार है कि लगातार दूसरी समीक्षा बैठक में ब्याज दरें बढ़ाई गई हैं। ब्याज दरों में हुई इस वृद्धि का सीधा असर आम जनता की जेब पर पड़ेगा। रेपो रेट के बैंकों से होम लोन और ऑटो लोन समेत अन्य कर्ज लेना महंगा पड़ेगा लोगों की ईएमआई भी मंहगी हो जाएंगी।

Related Articles