आरबीआई ने दी चेतावनी, कहा- जो इस बात को नहीं मानेगा उसका अकाउंट खाली हो जाएगा

0

मुंबई: तकनीकी के इस युग में इंटरनेट आज लगभग हर इंसान की जरूरत बन गया है। घर में प्रयोग होने वाले साबुन से लेकर पैसों तक के ट्रांजेक्शन के लिए आज इंटरनेट का प्रयोग किया जा रहा है। लेकिन जैसे जैसे इंटरनेट का प्रयोग बढ़ा है, वैसे ही इससे जुड़ी आपराधिक घटनाएं भी सामने आने लगी हैं। इंटरनेट के माध्यम से कई तरह के फ्रॉड सामने आए हैं जिसकी वजह से आम आदमी से लेकर बैंक तक पीड़ित हुआ है। लेकिन अब भारतीय रिसर्व बैंक (आरबीआई) ने ऐसे फ्रॉड के खिलाफ कमर कस ली है।

दरअसल, इंटरनेट के माध्यम से किये जा रहे फ्रॉड पर अंकुश लगाने के लिए आरबीआई ने ने जागरूकता अभियान की शुरुआत की है जिसके तहत आम लोगों को ऐसे फ्रॉड के खिलाफ जागरूक किया जा रहा है। इसी कदम के चलते आरबीआई ने बीते बुधवार को एक एडवाइजरी जारी की है जिसमें लोगों को जागरूक करते हुए कहा गया है कि वह आरबीआई के नाम से आने वाले इमेल्स से सचेत रहें। आरबीआई का कहना है कि ऐसे ईमेल के चक्कर में फंसने से आप फ्रॉड का शिकार हो सकते हैं।

आरबीआई ने कहा है कि उसके नाम पर लोगों को कुछ फर्जी ईमेल भेजे जाते हैं। इन ईमेल में कहा जाता है कि आप इनाम जीत चुके हैं। फिर लाखों रुपये का इनाम हासिल करने के लिए प्रोसेसिंग फीस और अन्य चार्ज के तौर पर पैसे मंगाए जाते हैं। जानकारी न होने के अभाव में कुछ लोग बिना सोचे-समझे इनामी राश‍ि हासिल करने के लिए पैसे भेज देते हैं। जब तक उनको धोखाधड़ी का पता चलता है, तब तक उनका हजारों रुपये का नुकसान हो जाता है।

आरबीआई ने साफ किया है कि उसकी तरफ से ऐसे ईमेल और मैसेज कभी भी किसी को नहीं भेजे जाते हैं। उसकी तरफ से लॉटरी जीतने अथवा विदेशों से पैसा आने जैसी कोई जानकारी ईमेल और एसमएस के जरिये नहीं भेजी जाती है।

केंद्रीय बैंक ने कहा कि रिजर्व बैंक के नाम पर फर्जी ईमेल भेजने वाले ‘आरबीआई’ और ‘रिजर्व बैंक’ जैसे नामों का इस्तेमाल करते हैं। जिससे लोग इन पर ज्यादा ध्यान नहीं देते। लेक‍िन अगर आपको ऐसे धोखाधड़ी के मामलों से बचना है तो यह जरूर पता करें कि ईमेल किस एड्रेस से आया है। कुछ भी संदिग्ध लगने पर अपनी तरफ से उस ईमेल पर किसी भी तरह की जानकारी साझा न करें। आरबीआई ने कहा है कि ऐसे ईमेल और एसएमएस का कोई जवाब  न दें।

loading...
शेयर करें