गहरे प्यार में डूबे दिलीप कुमार और मधुबाला को क्यों छोड़ना पड़ा था एक दूसरे का साथ

मधुबाला और दिलीप कुमार पहली बार 'तराना' की सेट पर मिले थे और दोनों के बीच एक रिश्ता बन गया। दोनों करीब 9 साल तक रिलेशनशिप में रहे। मधुबाला की खूबसूरत का हर कोई दिवाना था फिर वो चाहे एक्टर हो या प्रड्यूसर।

नई दिल्ली: हर किसी ने बॉक्स ऑफिस पर सुपर डूपर हिट फिल्म मुगले आज़म तो देखी ही होगी। ये एक ऐसी फिल्म थी जिसे दर्शकों ने काफी ज्यादा पसंद किया। 1960 में रिलीज हुई फिल्म के लोग दिवाने हो गए। इस फिल्म में दिलीप कुमार और मधुबाला की एक्टिंग ने सभी का दिल जीत लिया। स्क्रीन पर दोनों की कैमेस्ट्री को काफी ज्यादा पसंद किया गया। सिर्फ ऑनस्क्रीन ही नहीं ऑफस्क्रीन भी लोग इस कपल को देखना बेहद पसंद करते थे। वहीं बात करें दोनों की पर्सनल लाइफ की तो दोनों एक दूसरे के बेहद ही करीब थे। दोनों का रिश्ता काफी गहरा था। लेकिन दोनों की लव स्टोरी को कोई मुकाम नहीं मिल सका और एक वक्त के बाद दोनों एक दूसरे से बिछड़ गए।

दिलीप कुमार और मधुबाला.

बता दें कि मधुबाला और दिलीप कुमार पहली बार ‘तराना’ की सेट पर मिले थे और दोनों के बीच एक रिश्ता बन गया। दोनों करीब 9 साल तक रिलेशनशिप में रहे। मधुबाला की खूबसूरत का हर कोई दिवाना था फिर वो चाहे एक्टर हो या प्रड्यूसर। मधुबाला और दिलीप कुमार ने कई हिट फिल्में दी हैं जैसे कि मुगल ए आज़म, तराना, संगदिल और अमर में दिलीप कुमार और मधुबाला की जोड़ी जबरदस्ता हिट रही।

हालांकि ये प्रेम कहानी ज्यादा दिनों तक नहीं चल सकी और लवस्टोरी का द इंड हो गया। मधुबाला की बहन  मधुर भूषण ने फिल्मफेयर को दिए एक इंटरव्यू में दोनों के रिश्ते पर बात की। मधुर ने बताया कि आपा आई थीं चुन्नी लेकर। भाईजान भी पठान थे। मेरे पिता ने कभी भी उन्हें शादी करने से नहीं रोका। हम लोग समृद्ध थे। आपा और भाईजान यानी कि मधुबाला और दिलीप कुमार एक दूसरे के लिए ही बने थे। भाईजान कभी-कभी घर आया करते थे। उन्होंने तो मुझे स्कूल की ड्रेस में भी देखा था। वे बहुत शालीन स्वभाव के थे और हम सभी बच्चों को बेहद पसंद करते थे। वे हमें आप कह कर बुलाते थे। दिलीप कुमार और मधुबाला या तो ड्राइव पर निकल लेते थे या फिर कमरे में बैठकर बातें करते थे।

वहीं दोनों के बीच आई दरार को देखते हुए मधुबाला की बहन ने कहा कि फिल्म नया दौर की शूटिंग चल रही थी। बात साल 1957 की है। फिल्म का निर्देशन बी आर चोपड़ा कर रहे थे। ग्वालियर में किसी जगह पर शूटिंग होनी थी। उसी समय ऐसी खबरें आईं कि भीड़ ने एक महिला पर अटैक किया है और उसके कपड़े भी फाड़ दिए हैं। इसके बाद मेरे पिता ने शूटिंग की लोकेशन बदलने को कहा। वे दीदी को लेकर चिंतित थे।

इसके बाद ये मामला कोर्ट तक पहुंच गया। दिलीप साहेब ने मेरे पापा को तानाशाह तक कह दिया। यहीं से रिश्तों में दरारें पड़नी शुरू हो गईं और दोनों का रिश्ता टूट गया। आपा उन दिनों बहुत रोया करती थीं। जरूर ही वो लोग फोन पर बात करते थे और मामले को सुलझाने की कोशिश करते थे। भाईजान कहते रहते थे कि तुम अपने पिता को छोड़कर मेरे साथ रहने आ जाओ। जबकी दीदी का कहना था कि बस आप घर आ जाइए, पापा को सॉरी कहिए और गले लगा लीजिए।

यह भी पढ़ें: अवैध शराब के खिलाफ चला अभियान, 22 कुंतल लहन बरामद

लेकिन दोनों अपनी जिद के आगे नहीं झूके और दोनों का रिश्ता टूट गया। मगर मेरे पिता ने कभी भी दीदी से ये रिश्ता तोड़ने के लिए नहीं कहा ना हीं उन्होंने भाईजान से माफी मांगने के लिए भी कभी नहीं कहा। गौरतलब है कि इसके बाद दिलीप कुमार ने सायरा बानो और मधुबाला ने किशोर कुमार से शादी कर ली। शादी के करीब 9 साल बाद ही मधुबाला का निधन हो गया था।

यह भी पढ़ें: शिक्षा मंत्री ने जारी की 10वीं और 12वीं की डेटशी़ट, यहा देखें टाइम-टेबल

Related Articles

Back to top button