वैष्णो देवी के बाद अयोध्या में बड़ा होने से टला, प्रशासन की तैयारियां रही नाकाम

प्रशासनिक व्यवस्थाएं पूर्णरूपेण फेल हो गई हैं

अयोध्या में साल के पहले दिन बड़ी संख्या में श्रद्धालु मठ मंदिरों में पहुंचे हैं. प्रशासनिक व्यवस्थाएं पूर्णरूपेण फेल हो गई हैं. यह लापरवाही तस्वीरों में भी कैद हो गई. प्रशासन इस पर लापरवाह है. अयोध्या के हनुमानगढ़ी मंदिर में सुबह 4:00 बजे से ही लाखों की संख्या में श्रद्धालु उमड़ पड़े हैं. सुरक्षा के नाम पर लगे सुरक्षाकर्मी केवल अपनी ड्यूटी का समय काटते नजर आ रहे हैं, लिहाजा भीड़ में चाहे बच्चे हों बड़े हों, जवान हों या फिर बुजुर्ग सभी यहां अव्यवस्था का शिकार बनते दिखे हैं. कई श्रद्धालु बुरी तरह घंटों फंसे रहे, कई बिना दर्शन किए ही बाहर निकल आए.

धक्का-मुक्की में फंसी दिखी भीड़

भीड़ में फंसे जो लोग निकल कर बाहर आ रहे हैं वह अपनी व्यथा कह नहीं पा रहे हैं. कितने लोगों को लोगों ने खींचकर बाहर निकाला है. इतना ही नहीं गंभीर बीमारियों से ग्रस्त लोग भी इस भीड़ की धक्का-मुक्की में फंसे दिखे. श्रद्धालुओं की संख्या इतनी है कि कोई किसी तरफ भी जाएगा वह भीड़ के धक्के खाकर ही आगे चला जा रहा है. जो तस्वीरें आ रही हैं वह भी विचलित कर देने वाली हैं. इस बड़ी लापरवाही में जिम्मेदार केवल औपचारिकता ही निभा रहे हैं. जिला प्रशासन कुछ भी कहने से बच रहा है.

लाखों की संख्या में पहुंचे श्रद्धालु

यूं तो धर्म नगरी अयोध्या में लगातार श्रद्धालुओं आते रहते है हर दिन धर्म नगरी अयोध्या में खास है, लेकिन साल के पहले दिन बड़ी संख्या में श्रद्धालु या यूं कहा जाए कि युवा भगवान के दरबार में माथा टेक कर अपने साल की शुरुआत करने के लिए अयोध्या पहुंचे हैं, जिसमें आसपास के जिले के लोग बड़ी संख्या में शामिल हैं. पिछले वर्षों से सीख न लेते हुए जिला प्रशासन की उदासीनता श्रद्धालुओं की जान पर बन गई है. लाखों की संख्या में श्रद्धालु हनुमानगढ़ी के दरवाजे पहुंचे हैं, जहां पर बड़ी संख्या में भीड़ होने के कारण सुगमता से दर्शन तो दूर जान के लाले पड़ गए.

Related Articles