राज्य में राहत व बचाव कार्य होगा तेज: नरेंद्र मोदी

तिरुवनंतपुरम/नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन से बाढ़ प्रभावित केरल के हालात पर बातचीत की और रक्षा बलों से राहत व बचाव कार्य तेज करने को कहा। प्रधानमंत्री कार्यालय के आधिकारिक बयान में बताया गया कि मोदी ने विजयन से गुरुवार की सुबह फिर से बातचीत की। प्रधानमंत्री ने कहा, “हमने राज्य में बाढ़ के हालात पर चर्चा की। रक्षा मंत्रालय से राज्य में राहत व बचाव कार्य तेज करने को कहा गया है। केरल के लोगों की सुरक्षा व कल्याण की कामना करता हूं।”

लगातार बारिश से केरल में भारी बाढ़ आ गई है। राज्य में गुरुवार को 12 मौतों की सूचना है। इस तरह से 8 अगस्त से मरने वालों की संख्या 87 हो गई है। राज्य में शनिवार तक बारिश होने की संभावना है।

राज्य में बुधवार शाम को बाढ़ से 28 लोगों की मौत के बाद रेड अलर्ट जारी किया गया। मध्य केरल का पाथनमथिट्टा जिला बुधवार से बुरी तरह से प्रभावित है क्योंकि हजारों लोग रान्नी, अरानमूला व कोझेनचेरी में फंसे हुए हैं। फंसे लोगों में छात्र भी शामिल हैं।

सेना ने आपातकालीन स्थिति में पडिक्कड में स्थानीय संसाधनों से बुधवार की शाम को एक फुटब्रिज का निर्माण किया। बारिश के बंद नहीं होने के बावजूद 44 फील्ड रेजीमेंट के एक सैन्यदल ने पडिक्कड में 35 फीट के फुटब्रिज का निर्माण किया।

जवानों ने मलमपुझा के वलियाकाडु गांव के करीब 100 लोगों को बचाया है। इसमें बच्चे व बुजुर्ग भी शामिल हैं। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने 900 से ज्यादा लोगों को पाथनमथिट्टा, कोझीकोड, एर्नाकुलम, त्रिशूर व अलापुझा के सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया है।

केंद्र सरकार ने कहा कि उसने केरल में बड़े स्तर पर राहत व बचाव अभियान शुरू किया है।

कैबिनेट सचिव पी.के.सिन्हा ने प्रधानमंत्री के निर्देश पर यहां एक उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की और सेना, नौसेना, वायु सेना, तट रक्षक बल व एनडीआरएफ को केरल में राहत कार्यो को तेज करने के लिए अतिरिक्त जनबल, नौकाएं व हेलीकॉप्टर का उपयोग करने को कहा। एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा कि खाने के पैकेट व पीने का पानी राज्य में पहुंचाया गया है।

Related Articles