कश्मीर में मंदिरों के जीर्णोद्धार का काम फरवरी के अंत में होगा पूरा

श्रीनगर: श्रीनगर (Srinagar) में एक मंदिर, एक गुरुद्वारा, एक इमामबाड़ा, एक चर्च और दो मुस्लिम दरगाहों के नवीनीकरण के लिए सरकार के ‘स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट’ के हिस्से के रूप में जीर्णोद्धार (Renovations) का काम फरवरी के अंत तक पूरा हो जाएगा। अधिकारियों ने ये जानकारी दी। भगवान राम को समर्पित मंदिर का निर्माण 1835 में महाराजा गुलाब सिंह (Maharaja Gulab Singh) द्वारा श्रीनगर में झेलम नदी के तट पर किया गया था। इसके जीर्णोद्धार (Renovations) का काम पिछले साल शुरू किया गया।

1990 के दशक के प्रारंभ में उग्रवाद शुरू होने के बाद, कश्मीरी पंडितों का सामूहिक पलायन हुआ जो अपनी जिंदगी बचाने के लिए वहां से भागे। इस दौरान उन्हें अपना घर बार, व्यवसाय और पूजा स्थलों को छोड़ना पड़ा। ये सभी लोग कश्मीर से बाहर बस गए।

कठिनाई का किया सामना

बाहर जाने के बाद, अधिकांश पंडित जम्मू में तंग शिविरों में रहने लगे। सरकारों ने उनके लिए बेहतर आवास और सुविधाओं का वादा तो किया लेकिन कार्यान्वयन की प्रगति धीमी रही। एक पर्यटन अधिकारी ने कहा, अगले महीने के अंत तक, श्रीनगर में रघुनाथ मंदिर के जीर्णोद्धार का काम पूरा हो जाएगा।

ये भी पढ़ें : घने कोहरे के कारण बड़ा हादसा, ओवरब्रिज से गिरी कार, चालक की मौत

उन्होंने कहा कि मंदिर की छत में कुछ काम बाकी है जिसके लिए कांस्य से बनी सामग्री कश्मीर के बाहर से मंगवाई गई है। उन्होंने कहा, धार्मिक स्थलों के जीर्णोद्धार की कई नई परियोजनाओं को तीर्थयात्रा पर्यटन कार्यक्रम के तहत लिया जा रहा है।

 

Related Articles